यूपी विधानसभा: उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने अखिलेश को घेरा, सपा ने किया वाकआउट

लखनऊ, 21 सितंबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश विधानसभा में बुधवार को सदन का माहौल काफी गरमा गरम रहा। प्रश्नप्रहर के बाद उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर मंगलवार को नेता प्रतिपक्ष द्वारा लगाए गए आरोपों का जवाब देने के लिए जैसे ही खडे हुए। नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव का कहना था कि जब इस मामलें नेता सदन कल पूरा जवाब दे चुके हैं इसलिए इस विषय पर आज कोई वक्तव्य सुने जाने का औचित्य नहीं है।
 | 
यूपी विधानसभा: उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने अखिलेश को घेरा, सपा ने किया वाकआउट लखनऊ, 21 सितंबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश विधानसभा में बुधवार को सदन का माहौल काफी गरमा गरम रहा। प्रश्नप्रहर के बाद उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर मंगलवार को नेता प्रतिपक्ष द्वारा लगाए गए आरोपों का जवाब देने के लिए जैसे ही खडे हुए। नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव का कहना था कि जब इस मामलें नेता सदन कल पूरा जवाब दे चुके हैं इसलिए इस विषय पर आज कोई वक्तव्य सुने जाने का औचित्य नहीं है।

इस पर उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक का कहना था कि नेता प्रतिपक्ष द्वारा प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर जो मिथ्या आरोप लगाए गए हैं। उनके बारे स्थिति स्पष्ट करना जरूरी है। सपा के सदस्य उनकी बात सुनने को तैयार नहीं थे। इसी बीच सपा सदस्यों और उपमुख्यमंत्री के बीच तीखी नोंकझोंक हुई। बाद में सपा के सभी सदस्य सदन से वाकआउट कर गए। सपा सदस्यों के वाकआउट करने के बाद भी उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष द्वारा जो भी आरोप लगाए वे मिथ्या है।

chaitanya

उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष ने कल जिस भाषाशैली का इस्तेमाल किया वह उनके पद की मर्यादा के अनुरूप नहीं थी। उन्होंने कहा कि 2017 से पहले प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं का इतना बुरा हाल था कि टार्च की रोशनी में आपरेशन होते थे लेकिन अब ऐसा नहीं है। प्रदेश में योगी सरकार के सत्तारूढ़ होने के बाद से 14 जिलों को छोड़कर सभी जिलों में मेडिकल कालेजों की स्थापना की जा चुकी है। मेडिकल कालेजों में एमबीबीएस की सीटे बढाई गयी। यहीं नहीं रायबरेली और गोरखपुर में एम्स की स्थापना की गयी। जबकि सपा के कार्यकाल में तो स्वास्थ्य सेवाओं के लिए बजट ही नहीं आवंटित होता था। सारे स्वास्थ्य केन्द्र लूट का अड्डा बने हुए थे।

--आईएएनएस

विकेटी/एएनएम