यूएई ने पाकिस्तान में भारी निवेश का दिया संकेत

इस्लामाबाद, 26 जनवरी (आईएएनएस)। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के राष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने संकेत दिए हैं कि उनकी सरकार पाकिस्तान में अपने निवेश के दायरे को बढ़ाने की योजना बना रही है, क्योंकि पाकिस्तान को अपनी बिगड़ती अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए विदेशी निवेश की भारी जरूरत है।
 | 
इस्लामाबाद, 26 जनवरी (आईएएनएस)। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के राष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने संकेत दिए हैं कि उनकी सरकार पाकिस्तान में अपने निवेश के दायरे को बढ़ाने की योजना बना रही है, क्योंकि पाकिस्तान को अपनी बिगड़ती अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए विदेशी निवेश की भारी जरूरत है।

जियो न्यूज ने बताया कि राष्ट्रपति जायद अल नाहयान एक निजी दौरे पर पाकिस्तान पहुंचे और प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ के साथ द्विपक्षीय बैठक की। शरीफ ने चांदना हवाई अड्डे पर यूएई के राष्ट्रपति की अगवानी की।

सूत्रों ने यूएई के राष्ट्रपति के हवाले से कहा, तैयार रहें, यूएई पाकिस्तान में भारी निवेश करेगा।

शहबाज ने खाड़ी देश की अपनी हालिया यात्रा को याद किया और इस बात पर जोर दिया कि दोनों देश यूएई की अपनी यात्रा के दौरान दोनों नेताओं के बीच विभिन्न क्षेत्रों में बनी समझ पर काम करेंगे।

यूएई के राष्ट्रपति ने कहा कि दोनों देशों के बीच भाईचारे के रिश्ते कई दशक पुराने हैं और उनके पिता ने उनके द्विपक्षीय संबंधों की नींव रखी।

chaitanya

जियो न्यूज ने बताया कि राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री को आश्वासन भी दिया कि यूएई हमेशा पाकिस्तान के साथ खड़ा रहेगा।

प्रधानमंत्री ने ट्विटर पर लिखा, अपने भाई हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन जायद के पाकिस्तान पहुंचने पर बेहद खुश हूं, जो उनका दूसरा घर है। हमारी पिछली बैठक के आधार पर, हमने अपने संबंधों को और मजबूत करने के तरीकोंपर चर्चा की।

chaitanya

सूत्रों ने जियो न्यूज को बताया कि राष्ट्रपति ने पाकिस्तान पहुंचने पर प्रधानमंत्री के प्रति गर्मजोशी का इजहार किया और प्रधानमंत्री को अपने निजी जेट में ले गए।

सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री शरीफ ने राष्ट्रपति के परिवार के सदस्यों से भी मुलाकात की और उनके बच्चों के साथ अंग्रेजी और अरबी भाषा में बातचीत की।

यूएई ने 12 जनवरी को पाकिस्तान को 1 अरब डॉलर उधार देने और मौजूदा 2 अरब डॉलर के कर्ज को रोल ओवर करने पर सहमति जताई थी।

जियो न्यूज ने बताया कि यूएई की वित्तीय सहायता ने पाकिस्तान को को कुछ राहत दी है, जो अभी भी विनाशकारी राष्ट्रव्यापी बाढ़ से जूझ रहा है, जिसने देश को 30 अरब डॉलर से अधिक का नुकसान पहुंचाया है।

--आईएएनएस

सीबीटी