मोबाइल एप से क्राइम कंट्रोल करेगी पुलिस

(रिपोर्ट- राखी गंगवार)
बरेली: क्राइम (Crime) को कंट्रोल (Control) करने के लिए अब मोबाइल एप (Mobile App) पुलिस की सहायता करेंगे। दो वर्ष पहले शुरू हुए यूपी कॉप मोबाइल एप की सफलता के बाद अब कई नए एप भी आ गए हैं। सी प्लान एप, सवेरा एप, बीट पुलिसिंग एप पर भी पुलिस काम कर रही हैं। इन एप्स (Apps) को दरोगा से लेकर सिपाही सभी चलाएंगे। ये एप्स क्राइम कंट्रोल (Crime Control) में सहायक बने इसके लिए डाटा जुटाया जा रहा है।
up cop app to control crime
ठगी की घटनाओं को रोकेगा शासन
ठगी (Cheating) की घटनाओं को रोकने के लिए शासन (Governance) लोगों के मोबाइल पर मैसेज भेजकर उन्हें ठगी से बचने के तरीके व शिकायत किस तरह और कहां करें सभी की जानकारी देंगे। मैसेज में साइबर क्राइम पोर्टल (Cyber Crime Portal) वेबसाइट की लिंक  भी होगी। कार्रवाई के लिए पोर्टल पर सही और सटीक विवरण भरना होगा। इंटरनेशनल कॉल (International Call) की शिकायत के लिए भी मैसेज में हेल्पलाइन नंबर भेजा जाएगा जिस पर उपभोक्ता अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

सी प्लस एप (C Plus App)
सी प्लस एप की हर तरफ नजर रहेगी। इस एप में शहर से लेकर गांव तक हर व्यक्ति की जानकारी होगी। इस एप को एसएसपी से लेकर दीवान तक सभी अपने मोबाइल में रखेंगे। इसमें हर गांव के दस संभ्रांत लोगों के मोबाइल नंबर, नाम व अन्य जानकारी दर्ज होगी। ताकि इन लोगों से कभी भी गांव बारे में जानकारी ली जा सके।

सवेरा एप (Savera App)
सवेरा एप में अपने जिले के सभी बुजुर्गों का डाटा दर्ज किया जाएगा। परिवार से अलग रहने वाले बुजुर्गों के लिए अलग से श्रेणी बनाई गई है। इसमें यूपी 112 की टीम भी सहयोग कर रही है1। इस एप में अब तक सात हजार से ज्यादा बुजुर्गों का डाटा दर्ज किया जा चुका है।

यूपी कॉप (UP Cop)
हम इस एप के जरिए ऑनलाइन एफआइआर करा सकते हैं और दर्ज एफआइआर की जानकारी भी ले सकते हैं। इसके अलावा क्षेत्र के इनामी अपराधी, वरिष्ठ नागरिकों की शिकायतें, जुलूस के लिए आवेदन, किरायेदार सत्यापन, कर्मचारी सत्यापन, चरित्र प्रमाण पत्र आदि घर बैठकर कराया जा सकता है।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें