मेंढक, बिच्छू और पाकिस्तान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 77वें सत्र में भाग लेने के लिए न्यूयॉर्क में हैं। वह 23 सितंबर को यूएनजीए को संबोधित करेंगे। न्यू यॉर्क में पाकिस्तानी मीडिया से बात करते हुए शरीफ ने कहा कि, उनका उद्देश्य विश्व समुदाय को उस तबाही से अवगत कराना होगा जो उनके देश में मानसूनी बारिश से हुई है, जिसका एक तिहाई बाढ़ के पानी में डूबा हुआ है।
 | 
मेंढक, बिच्छू और पाकिस्तान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 77वें सत्र में भाग लेने के लिए न्यूयॉर्क में हैं। वह 23 सितंबर को यूएनजीए को संबोधित करेंगे। न्यू यॉर्क में पाकिस्तानी मीडिया से बात करते हुए शरीफ ने कहा कि, उनका उद्देश्य विश्व समुदाय को उस तबाही से अवगत कराना होगा जो उनके देश में मानसूनी बारिश से हुई है, जिसका एक तिहाई बाढ़ के पानी में डूबा हुआ है।

पाकिस्तान में हाल ही में आई बाढ़ से हुई तबाही निस्संदेह विनाशकारी है। लगभग चार करोड़ लोग बेघर हो गए हैं, हजारों किलोमीटर सड़कें और सैकड़ों पुल बह गए हैं, फसलें जलमग्न हो गई और हजारों लोग डेंगू, हैजा, मलेरिया और टाइफाइड जैसी बीमारियों से पीड़ित हैं। लेकिन पाकिस्तानी प्रधान मंत्री ने प्रेस को कुछ ऐसा बताया जो पूरी तरह से समझ से बाहर था। उन्होंने कहा कि, यूएनजीए में उनके संबोधन के दौरान कश्मीर मुद्दे का भी जिक्र किया जाएगा।

chaitanya

इसने मुझे एक कहानी की याद दिला दी जिसमें एक बिच्छू मेंढक के पास जाता है और उसे अपनी पीठ पर नदी के उस पार ले जाने के लिए कहता है। मेंढक झिझकता है और बिच्छू से कहता है कि उसे उस पर भरोसा नहीं है क्योंकि वह डंक मार सकता है। लेकिन बिच्छू वादा करता है कि, वह मेंढक को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएगा। जैसे ही मेंढक बिच्छू को अपनी पीठ पर बिठाता है, नदी के बीच में पहुंचता है, बिच्छू मेंढक को डंक मार देता है। मेंढक बिच्छू से पूछता है कि वादा करने के बावजूद उसने क्यों डंक मारा। इस पर बिच्छू ने माफी मांगते हुए कहा, डंक मारना मेरा स्वभाव है।

पाकिस्तान भी कुछ ऐसा ही करता है। पाकिस्तान पर चाहे कितनी ही बार भरोसा क्यों न कर ले, वह हमेशा उसे तोड़ता ही है। अगस्त 1947 में विभाजन के समय, पाकिस्तान ने जम्मू और कश्मीर राज्य के महाराजा के साथ राज्य की संप्रभुता को स्वीकार करने का वादा करते हुए एक स्टैंड स्टिल समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। फिर भी 22 अक्टूबर 1947 को पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर राज्य पर आक्रमण कर दिया। 1999 में जब नवाज शरीफ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री थे और भारत के साथ व्यापार करने की अपनी गहरी इच्छा व्यक्त कर रहे थे, उनके सेना प्रमुख ने कारगिल में हमारे क्षेत्र पर हमला किया।

पाकिस्तान धर्म और सांप्रदायिक विभाजन के नाम पर बनाया गया था। पाकिस्तान आज भी मानता है कि, प्रासंगिक बने रहने के लिए, पाकिस्तान के जवानों को भारतीय हमले और कश्मीर समेत पूरे भारत में मुसलमानों के खतरे को जीवित रखना होगा।

शहबाज शरीफ की गठबंधन सरकार को कथित तौर पर इमरान खान विरोधी वर्ग यानी पाकिस्तान सैन्य प्रतिष्ठान के प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के नेतृत्व में समर्थन दिया गया है, केवल पाकिस्तान सैन्य प्रतिष्ठान द्वारा लगभग सात दशकों के लिए तैयार की गई आधिकारिक विदेश नीति का पालन कर रही है।

29 सितंबर को पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष इमरान खान पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद में एक जनसभा को संबोधित करने वाले हैं। वह बहुत बारीकी से कश्मीर कार्ड का उपयोग करके लोगों का समर्थन पाने की कोशिश करेंगे। वह इस्लामी सांप्रदायिक नफरत कार्ड का उपयोग कर खुद को एक महान इस्लामी योद्धा साबित करेंगे। जो पाकिस्तान को इस्लाम के एक महान किले में बदल सकता है। इस प्रकार भारत उपमहाद्वीप में गजवा-ए-हिंद को ले जाने के लिए भावी पीढ़ी के लिए जमीन तैयार करने की कोशिश रहेगी।

23 सितंबर को, पाकिस्तानी प्रधान मंत्री कश्मीर मुद्दे को हल करने के लिए कहेंगे और यह भूल जाएंगे कि कश्मीर राज्य के टूटने का मूल कारण भारत नहीं पाकिस्तान है और उसे पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू कश्मीर, गिलगित-बल्तिस्तान से अपनी सेना वापस लेनी होगी । विश्व समुदाय द्वारा पाकिस्तान को दिए गए एक मंच पर कश्मीर के बारे में बात करना और बाढ़ से हुए नुकसान की कीमत में मदद करने की अपील करना मेंढक और बिच्छू की कहानी के समान है। कश्मीर को लेकर भारत विरोधी सांप्रदायिक नफरत की कहानी का जिक्र करना पाकिस्तान के स्वभाव में है।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम