मारे गए भारतीय मूल के किशोर के पिता को कनाडा जाने का अफसोस

टोरंटो, 25 नवंबर (आईएएनएस)। सरे के एक स्कूल की पाकिर्ंग में चाकू मारकर मौत के घाट उतारे गए 18 वर्षीय महकप्रीत सेठी के पिता ने एक समाचार चैनल से कहा है कि उन्हें अपने बच्चों के साथ कनाडा आने का पछतावा है।
 | 
मारे गए भारतीय मूल के किशोर के पिता को कनाडा जाने का अफसोस टोरंटो, 25 नवंबर (आईएएनएस)। सरे के एक स्कूल की पाकिर्ंग में चाकू मारकर मौत के घाट उतारे गए 18 वर्षीय महकप्रीत सेठी के पिता ने एक समाचार चैनल से कहा है कि उन्हें अपने बच्चों के साथ कनाडा आने का पछतावा है।

मंगलवार को न्यूटन क्षेत्र के तमनाविस माध्यमिक विद्यालय के 17 वर्षीय छात्र ने द्वारा महकप्रीत सेठी पर चाकू से हमला कर दिया था, जिसकी बाद में अस्पताल में मौत हो गई थी।

महकप्रीत के पिता हर्षप्रीत सेठी ने ओमनी पंजाबी को बताया, जब मैं अस्पताल गया, तो डॉक्टरों ने मुझे बताया कि चाकू सीधे उसके दिल में घुस गया, जिससे उसकी मौत हो गई।

chaitanya

परिवार आठ साल पहले दुबई से कनाडा चला गया था। चैनल ने बताया कि वे पंजाब के फरीदकोट जिले के रहने वाले हैं।

हर्षप्रीत ने कहा, मैं इस उम्मीद के साथ कनाडा आया था कि मेरे बच्चों का भविष्य बेहतर होगा, वे सुरक्षित रहेंगे, लेकिन अब मुझे पछतावा हो रहा है कि मैं अपने बच्चों के साथ इस देश में क्यों आया।

हर्षप्रीत ने स्थानीय टीवी चैनल को बताया कि हमलावर उनके बेटे की जान लेने के बजाय उसे थप्पड़ मार सकता था, उसके हाथ या पैर पर वार कर सकता था।

पुलिस ने संदिग्ध को हिरासत में ले लिया है।

हरप्रीत ने कहा कि 18 साल तक बच्चों को पालना और फिर इस तरह की घटना में उन्हें खो देना आसान नहीं होता है, उसके माता-पिता ने उसे (संदिग्ध) किस तरह की परवरिश दी है?

तमनाविस माध्यमिक विद्यालय के कार्यवाहक प्रधानाचार्य द्वारा जारी एक बयान के अनुसार महकप्रीत स्कूल में आठवीं कक्षा में पढ़ने वाले अपने छोटे भाई भवप्रीत को लेने गया था।

महकप्रीत की बहन ने ओमनी पंजाबी को बताया कि उसने जन्मदिन पर भवप्रीत के लिए नए कपड़े खरीदने की योजना बनाई थी, इसलिए वह लंच ब्रेक के दौरान उसे लेने गया था।

इंटीग्रेटेड होमिसाइड इन्वेस्टिगेशन टीम के सार्जेंट टिमोथी पिएरोटी ने एक बयान में मामले में गवाहों से आगे आने और जानकारी साझा करने का अनुरोध किया है।

--आईएएनएस

पीटी/सीबीटी