भारत में एससीओ फिल्म महोत्सव में दिखाई जाएंगी 5 चीनी फिल्में

बीजिंग, 24 जनवरी (आईएएनएस)। भारतीय सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने 23 जनवरी को कहा कि 27 से 31 जनवरी तक भारत में शांगहाई सहयोग संगठन (एससीओ) फिल्म महोत्सव आयोजित किया जाएगा। इस दौरान होम कमिंग और बी फॉर बिजी सहित पांच चीनी फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा।
 | 
बीजिंग, 24 जनवरी (आईएएनएस)। भारतीय सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने 23 जनवरी को कहा कि 27 से 31 जनवरी तक भारत में शांगहाई सहयोग संगठन (एससीओ) फिल्म महोत्सव आयोजित किया जाएगा। इस दौरान होम कमिंग और बी फॉर बिजी सहित पांच चीनी फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा।

इस साल के अंत में भारत द्वारा आयोजित किए जाने वाले एससीओ शिखर सम्मेलन की तैयारी के क्रम में मुंबई में आयोजित होने वाले इस फिल्म महोत्सव का आयोजन बॉलीवुड के केंद्र में किया जा रहा है। शिखर सम्मेलन की तारीखों को अंतिम रूप दिया जाना और घोषित किया जाना बाकी है।

भारत इस साल एससीओ की अध्यक्षता कर रहा है। फिल्म महोत्सव के जूरी में एससीओ सदस्य देशों के फिल्म निमार्ता शामिल हैं, जिनमें विश्व स्तर पर प्रशंसित और पुरस्कार विजेता चीनी फिल्म निर्देशक निंग यिंग शामिल हैं।

भारतीय सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अनुसार, प्रतियोगिता खंड के लिए कुल 14 फिल्मों को नामांकित किया गया है। एससीओ फिल्म महोत्सव में एससीओ देशों की ओर से कुल 57 फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा। प्रतियोगिता खंड में 14 फीचर फिल्में प्रतिस्पर्धा कर रही हैं और उन्हें प्रदर्शित किया जाएगा और गैर-प्रतिस्पर्धा खंड में 43 फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा।

chaitanya

प्रतियोगिता खंड केवल एससीओ सदस्य देशों के लिए है, और इसमें सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता, सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक और विशेष जूरी पुरस्कार जैसे विभिन्न प्रतिष्ठित पुरस्कार शामिल हैं। वहीं, गैर-प्रतिस्पर्धा खंड सभी एससीओ देशों, अर्थात् सदस्य देशों, पर्यवेक्षक देशों और संवाद भागीदारों के लिए भी है।

chaitanya

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में उप महासचिव नीरजा शेखर ने एससीओ फिल्म महोत्सव के बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए कहा कि महोत्सव का उद्देश्य सिनेमाई साझेदारी बनाना और एससीओ में विभिन्न देशों की संस्कृतियों के बीच एक सेतु के रूप में कार्य करना है। फिल्म महोत्सव में दिखाई जा रही फिल्में दर्शकों को विभिन्न संस्कृतियों का अनुभव करने और एससीओ देशों के लोगों के लिए एक-दूसरे को बेहतर तरीके से जानने का मौका देंगी।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

एएनएम