भारत बायोटेक की इंट्रानेजल कोविड बूस्टर खुराक को मंजूरी

नई दिल्ली, 25 नवंबर (आईएएनएस)। भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने भारत बायोटेक की इंट्रानेजल फाइव आर्म्स कोविड 19 बूस्टर खुराक के प्रतिबंधित उपयोग की मंजूरी दे दी है।
 | 
भारत बायोटेक की इंट्रानेजल कोविड बूस्टर खुराक को मंजूरी नई दिल्ली, 25 नवंबर (आईएएनएस)। भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने भारत बायोटेक की इंट्रानेजल फाइव आर्म्स कोविड 19 बूस्टर खुराक के प्रतिबंधित उपयोग की मंजूरी दे दी है।

एक सूत्र ने कहा कि कोवाक्सिन या कोविशील्ड वैक्सीन की खुराक दिए जाने के बावजूद वयस्कों के लिए तीसरी खुराक के रूप में प्रतिबंधित आपातकालीन उपयोग के लिए नैजल वैक्सीन आईएनसीओवीएसीसी को आपातकालीन उपयोग की अनुमति दी गई है।

वैक्सीन निर्माता के अनुसार टीके की उत्कृष्ट क्षमता है। यह नाक में प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया पैदा कर सकता है। इससे बीमारी, संक्रमण और संचरण से बचाव होता है।

chaitanya

दूसरी खुराक के छह महीने बाद नाक का टीका लिया जा सकता है। चूंकि सुई रहित है, इसलिए इसे लेना आसान हो जाता है।

भारत बायोटेक ने दावा किया कि इंट्रानेजल वैक्सीन व्यापक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को उत्तेजित करता है। इसमें कोविड-19 के संक्रमण और संचरण दोनों को अवरुद्ध करने की क्षमता है।

--आईएएनएस

सीबीटी