Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तरप्रदेश भारत का सबसे बड़ा केस लड़ने वाले केसवानंद भारती नहीं रहे

भारत का सबसे बड़ा केस लड़ने वाले केसवानंद भारती नहीं रहे

Covid-19: देशभर में एक दिन में मिले इतने संक्रमित कि कुल संख्या हो गई 56 लाख के पार

भारत में कोरोना वायरस (corona virus) के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से थोड़ी राहत देखने को...

सावधान! अपने बच्चों को डीजल से रखिए दूर, ले सकता है जान, देखिए पूरी घटना

दुनिया भर में तरह-तरह की अजीबोगरीब घटनाएं घटती रहती हैं, जो लोगों को हैरतअंगेज में डाल देती है। वहीं अब एक डेढ़ साल के...

रिया और शौविक चक्रवर्ती की जमानत याचिका पर आज होगी सुनवाई, इससे पहले ये कहकर अदालत ने रद्द की थी याचिका

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) ड्रग्स मामले  में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती को गिरफ्तार किया...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज इन सात राज्यों के सीएम और स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ करेंगे बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) बुधवार को यानी आज उत्तर प्रदेश (UP) और महाराष्ट्र समेत सात राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों...

BAREILLY: पांच साल के सफल प्रयास के बाद आईवीआरआई ने बनाई जानवरों में फैल रहे वायरस को खत्म करने की वैक्सीन

बरेली: आईवीआरआई के वैज्ञानिकों (IVRI Scientists) ने जानवरों के लिए खतरनाक माने जाने वाले बैक्टीरिया की बीमारी ब्रुसेलोसिस की वैक्सीन (Brucellosis Vaccine) बना ली...

हमारे भारतीय संविधान (Indian Constitution) के मूल ढांचे का सिद्धांत दिलाने वाले संत केसवानंद भारती (Keshvanand Bharti) का 79 साल की उम्र में आज निधन हो गया। केसवानंद भारती इदानीर मठ में उम्र संबंधी बीमारी से जूझ रहे थे। पुलिस ने कहा कि ‘हमें मिली सूचना के मुताबिक रविवार तड़के करीब तीन बजकर 30 मिनट पर उनका निधन हुआ।’

बता दें कि चार दशक पहले भारती ने केरल भूमि सुधार कानून को चुनौती दी थी जिसपर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने संविधान के मूल ढांचे का सिद्धांत दिया और यह फैसला शीर्ष अदालत की अब तक सबसे बड़ी पीठ ने दिया था, जिसमें 13 न्यायधीश शामिल थे। केशवानंद भारती बनाम केरल राज्य (Keshvanand Bharti vs Kerala State) मामले पर 68 दिन तक सुनवाई हुई थी और अब तक उच्चतम न्यायालय में सबसे अधिक समय तक किसी मुकदमे पर चली सुनवाई के मामले में यह शीर्ष पर है।

इस मामले की सुनवाई 31 अक्टूबर 1972 को शुरू हुई और 23 मार्च 1973 को सुनवाई पूरी हुई। भारतीय संवैधानिक कानून में इस मामले की सबसे अधिक चर्चा होती है।
                    http://www.narayan98.co.in/
Narayan College                    https://youtu.be/yEWmOfXJRX8

Related News

Covid-19: देशभर में एक दिन में मिले इतने संक्रमित कि कुल संख्या हो गई 56 लाख के पार

भारत में कोरोना वायरस (corona virus) के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से थोड़ी राहत देखने को...

सावधान! अपने बच्चों को डीजल से रखिए दूर, ले सकता है जान, देखिए पूरी घटना

दुनिया भर में तरह-तरह की अजीबोगरीब घटनाएं घटती रहती हैं, जो लोगों को हैरतअंगेज में डाल देती है। वहीं अब एक डेढ़ साल के...

रिया और शौविक चक्रवर्ती की जमानत याचिका पर आज होगी सुनवाई, इससे पहले ये कहकर अदालत ने रद्द की थी याचिका

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) ड्रग्स मामले  में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती को गिरफ्तार किया...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज इन सात राज्यों के सीएम और स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ करेंगे बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) बुधवार को यानी आज उत्तर प्रदेश (UP) और महाराष्ट्र समेत सात राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों...

BAREILLY: पांच साल के सफल प्रयास के बाद आईवीआरआई ने बनाई जानवरों में फैल रहे वायरस को खत्म करने की वैक्सीन

बरेली: आईवीआरआई के वैज्ञानिकों (IVRI Scientists) ने जानवरों के लिए खतरनाक माने जाने वाले बैक्टीरिया की बीमारी ब्रुसेलोसिस की वैक्सीन (Brucellosis Vaccine) बना ली...

Rajyasabha: राज्यसभा के लिए बना ऐतिहासिक दिन, साढ़े तीन घंटे में पास हुए इतने बिल

राज्यसभा (Rajyasabha) के लिए 22 सितंबर का दिन ऐतिहासिक दिन बन गया है। क्योंकि राज्यसभा में इस दिन मात्र साढ़े तीन घंटे में 7...