भारत और फिजी हिंदी को बढ़ावा देने के लिए कर रहे बातचीत

सुवा, 22 नवंबर (आईएएनएस)। हिंदी को बढ़ावा देने के लिए भारत और फिजी के अधिकारी दक्षिणी प्रशांत देश में एक आधुनिक भाषा प्रयोगशाला स्थापित करने के लिए बातचीत कर रहे हैं। फिजी में भारतीय उच्चायुक्त पलानीस्वामी कार्तिगेयन ने यह जानकारी दी।
 | 
भारत और फिजी हिंदी को बढ़ावा देने के लिए कर रहे बातचीत सुवा, 22 नवंबर (आईएएनएस)। हिंदी को बढ़ावा देने के लिए भारत और फिजी के अधिकारी दक्षिणी प्रशांत देश में एक आधुनिक भाषा प्रयोगशाला स्थापित करने के लिए बातचीत कर रहे हैं। फिजी में भारतीय उच्चायुक्त पलानीस्वामी कार्तिगेयन ने यह जानकारी दी।

गौरतलब है कि हिंदी देश में बोली जाने वाली तीन आधिकारिक भाषाओं में से एक है, अन्य दो फिजियन और अंग्रेजी हैं। कार्तिगेयन ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, भारत सरकार भी हिंदी भाषा को बढ़ावा देने के लिए कुछ करने की सोच रही है। वह फिजी को एक आधुनिक भाषा प्रयोगशाला स्थापित करने में मदद करना चाहता है।

chaitanya

यह कदम अगले साल 15-17 फरवरी तक होने वाले 12वें विश्व हिंदी सम्मेलन से पहले उठाया गया है, जिसकी मेजबानी फिजी द्वारा की जाएगी।

एक हजार से अधिक प्रतिनिधियों के उद्घाटन समारोह का हिस्सा बनने की उम्मीद है, जिसमें हिंदी भाषी विद्वान, भाषा शिक्षाविद और अन्य अधिकारी शामिल होंगे।

कार्तिगेयन के हवाले से फिजी टाइम्स से कहा, भाषा प्रयोगशाला के लिए पूरे सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर भारत सरकार द्वारा उपहार में दिए जाएंगे, इसको स्थापित करने के लिए स्थान आदि पर विचार किया जा रहा है।

तीन दिवसीय सम्मेलन फिजी के नाडी शहर में आयोजित किया जाएगा, जहां श्री शिव सुब्रमण्यम स्वामी मंदिर स्थित है, जो प्रशांत क्षेत्र में सबसे बड़ा हिंदू मंदिर है।

उच्चायुक्त ने कहा, यह एक सरकारी संस्थान हो सकता है या यह विश्वविद्यालयों या यहां तक कि कुछ अच्छी तरह से मान्यता प्राप्त स्कूलों की तरह उच्च शिक्षा का संस्थान हो सकता है। चर्चा शुरू की गई है, हमें उम्मीद है कि हम इसे अंतिम रूप देने में सक्षम होंगे।

फिजी हिंदी, जिसे फिजियन बात या फिजियन हिंदुस्तानी के रूप में भी जाना जाता है, इंडो-फिजियन द्वारा बोली जाने वाली भाषा है, और मुख्य रूप से हिंदी की अवधी और भोजपुरी किस्मों से ली गई है।

फिजी हिंदी देश के संविधान में आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप में स्थापित है। इसे देश के प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में भी पढ़ाया जाता है।

प्राथमिक विद्यालयों में भारतीय मूल के छात्रों के लिए अनिवार्य है, यह माध्यमिक विद्यालयों में एक वैकल्पिक विषय है और फिजी के विश्वविद्यालयों में भी पढ़ाया जाता है।

फिजियन शिक्षा, विरासत और कला मंत्रालय के स्थायी सचिव अंजीला जोखन ने पिछले महीने कहा था, हमारी आबादी के एक महत्वपूर्ण हिस्से के पास भारतीय विरासत है, हमने अपनी भाषाओं, परंपराओं और संस्कृति की सुरक्षा और संवर्धन सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम किया है। हमें यह कहते हुए गर्व हो रहा है कि फिजी के विद्वानों ने न केवल फिजी में हिंदी के विकास में योगदान दिया है, बल्कि दुनिया भर में इसे फैलाया है।

--आईएएनएस

पीटी/सीबीटी