बीजेवाई को लेकर हुई बैठक में शामिल हुए गहलोत, पायलट..बिना एक दूसरे से बात किए दूर बैठे

जयपुर, 23 नवंबर (आईएएनएस)। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बीच की खींचतान बुधवार को एक बार फिर उस समय खुलकर सामने आ गई जब दोनों एक बैठक के दौरान एक दूसरे से दूर बैठे थे और बात भी नहीं कर रहे थे।
 | 
बीजेवाई को लेकर हुई बैठक में शामिल हुए गहलोत, पायलट..बिना एक दूसरे से बात किए दूर बैठे जयपुर, 23 नवंबर (आईएएनएस)। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बीच की खींचतान बुधवार को एक बार फिर उस समय खुलकर सामने आ गई जब दोनों एक बैठक के दौरान एक दूसरे से दूर बैठे थे और बात भी नहीं कर रहे थे।

यह बैठक राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा की तैयारियों पर चर्चा के लिए बुलाई गई थी जो दिसंबर के पहले सप्ताह में राजस्थान में प्रवेश करेगी।

बैठक में गहलोत और पायलट एक-दूसरे से दूर बैठे नजर आए। दोनों नेताओं ने एक-दूसरे से बात भी नहीं की। सचिन पायलट बैठक खत्म होने से पहले ही चले गए। राजस्थान में 25 सितंबर को हुए राजनीतिक बवाल के बाद पहली बार दोनों नेता एक बैठक में नजर आए। कांग्रेस नेता राहुल गांधी 17 दिनों तक राजस्थान में रहेंगे और यहां से हरियाणा जाएंगे। राजस्थान में यात्रा की तैयारियों को लेकर समन्वय समिति की पहली बैठक कांग्रेस वार रूम में हुई। समन्वय समिति में 33 सदस्य हैं।

chaitanya

बैठक में गहलोत और पायलट की कुर्सियां दूर-दूर थीं, पायलट हरीश चौधरी के बगल में बैठे थे, जबकि अशोक गहलोत के एक तरफ दिग्गज नेता जितेंद्र सिंह और दूसरी तरफ प्रदेश पार्टी अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा बैठे थे। करीब 12 बजे शुरू हुई बैठक के लिए अशोक गहलोत देरी से पहुंचे और सचिन पायलट बैठक खत्म होने से करीब आधा घंटा पहले निकल गए।

समिति भारत जोड़ो यात्रा के रूट की समीक्षा कर रही है। यात्रा ने बुधवार यानी आज मध्य प्रदेश में बुरहानपुर के रास्ते प्रवेश किया है। भारत जोड़ो यात्रा की समन्वय समिति के सदस्य प्रदेश प्रभारी अजय माकन बैठक में शामिल नहीं हुए। माकन ने 8 नवंबर को कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को पत्र लिखकर राजस्थान प्रभारी पद से इस्तीफा दे दिया था। माकन का इस्तीफा अभी मंजूर नहीं हुआ है।

माकन ने 25 सितंबर को कांग्रेस विधायक दल की बैठक का बहिष्कार करने के लिए जिम्मेदार ठहराए गए तीन नेताओं शांति धारीवाल, महेश जोशी और धर्मेंद्र राठौर के खिलाफ कार्रवाई न होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए इस्तीफा दे दिया।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम