बरेली: महिला आयोग की टीम ने पीड़ित महिलाओं की सुनी फरियाद

बरेली: उत्तर प्रदेश सरकार ने पीड़ित महिलाओं की सुनवाई के लिए महिला आयोग का गठन किया है। इसके अंतर्गत महीने के पहले व तीसरे बुधवार को सर्किट हाउस (Circuit House) में पीड़ित महिलाओं की सुनवाई की जाती है। राज्‍य महिला आयोग (Rajya Mahila Aayog) की सदस्य रश्मि जायसवाल पिछले काफी समय से पीड़ित महिलाओं की फरियाद सुनकर उनको न्याय दिलाने का कार्य कर रही हैं।

Mahila aayogजिला प्रोबेशन अधिकारी नीता अहिरवार की टीम उनका सहयोग कर रही है। बुधवार को लगभग 21 फाइलों की सुनवाई के लिए रश्मि जायसवाल सर्किट हाउस पहुंचीं। उन्होंने वहां मौजूद पीड़ित महिलाओं की सुनवाई की और कुछ की समस्‍याओं निस्तारण भी किया। इसके अलावा कुछ फाइलों पर काउंसलिंग चल रही है। सुनवाई के दौरान एक मामला थाना सुभाष नगर का था जिसमें 8 दिसंबर 2019 में शादी हुई थी। कुछ दिनों बाद उन दोनों में झगड़ा हो गया। पत्नी प्रियंका शर्मा ने इसकी शिकायत महिला थाने में की।
mahila aayog महिला पुलिस ने प्रियंका के पति सचिन व उसके के परिवार को सर्किट हाउस बुलाकर मैडम के सामने पेश किया। आयोग की सदस्य रश्मि जायसवाल ने दोनों को समझाया और एक साथ रहने के लिए कहा। जिस पर पत्नी प्रियंका अपने पति सचिन के साथ रहने को तैयार हो गई। लेकिन सचिन पत्‍नी को साथ नहीं रखना चाहता था। रश्मि जयसवाल ने कहा कि यह मामला पहली बार हमारे सामने आया है लगातार इसकी काउंसलिंग चलेगी, जल्द ही यह घर बस जाएगा। जिला प्रोबेशन अधिकारी नीता अहिरवार ने बताया कि आज कई पीड़ित महिलाएं मैडम से मिलीं। कुछ पर निस्तारण हो गया है, शेष पर काउंसलिंग चल रही है

उत्तराखंड की बड़ी खबरें