Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तरप्रदेश बरेली: किसानों के दुश्‍मन खोजने वाले प्रोफेसर को मिला अवॉर्ड

बरेली: किसानों के दुश्‍मन खोजने वाले प्रोफेसर को मिला अवॉर्ड

BAREILLY: स्कूल फीस को लेकर अभिभावक पहुंचे कलेक्ट्रेट और की ये मांग

बरेली: अभिभावक और स्कूल प्रबंधन (School Management) के बीच फीस को लेकर तकरार जारी है। कोरोना महामारी (Corona Epidemic) के चलते पिछले छह महीने...

रिया और शौविक चक्रवर्ती की जमानत याचिका पर आज नहीं होगी सुनवाई, जानिए कारण

सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput) से जुड़े ड्रग्स मामले (Drugs Cases) में रिया चक्रवर्ती की मुश्किलें कम नहीं हो रही है। मंगलवार...

Covid Vaccine: भारत बायोटेक बनाएगी एक अरब कोरोना वैक्सीन

पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी (Corona virus vaccine) से परेशान है। सभी लोगों की आस कोरोना वैक्सीन पर लगी हुई है। इसी बीच कोरोना...

सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता ने शेयर किया फैंस द्वारा भेजे गए मैसेज का वीडियो, और कहीं ये बात

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की बहन श्वेता सिंह कीर्ति (Shweta Singh Kirti) सोशल मीडिया पर लगातार सुशांत के लिए न्याय की मांग...

टाइम मैगज़ीन ने जारी की 100 प्रभावशाली लोगों की सूची, PM मोदी के साथ ये लोग भी हैं शामिल

साल 2020 में दुनिया भर के सबसे प्रभावशाली व्यक्तियों की सूची प्रतिष्ठित मैगजीन 'टाइम' (time magazine) ने जारी कर दी है। टाइस मैग्जीन की...

बरेली कालेज के प्रोफेसर को मिला बेस्‍ट साइंटिस्‍ट अवॉर्ड: बरेली कॉलेज बायोलॉजी डिपार्टमेंट के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. राजेंद्र सिंह को नेचर साइंस फाउंडेशन तमिलनाडु ने प्‍लांट नेमटोलॉजी में उत्‍कृष्‍ट शोध के लिए वर्ष 2020 का सर्वश्रेष्‍ट वैज्ञानिक चुना। डॉ. राजेंद्र सिंह को यह अवार्ड वर्ष 2019 – 20 के दौरान प्‍लांट नेमटोलॉजी में पीजीपीआर इंटरैक्‍शन पर शोध के लिए दिया गया है।
best scientist dr rajendra singh
इस उत्‍कृष्‍ट शोध के माध्‍यम से डॉ. राजेंद्र सिंह ने देशभर में अपनी पहचान बनाई है। यह अवार्ड डॉ. राजेंद्र सिंह को 11 जनवरी को कोयंबटूर में आयोजित राष्‍ट्रीय कांफ्रेंस में दिया जाना था पर वह वहां जा नहीं पाए इसलिए फाउंडेशन ने पुरस्‍कार खुद कॉलेज पहुंचाया। कॉलेज में आयोजित सम्‍मान समारोह में प्राचार्य डॉ. अनुराग मोहन ने डॉ. राजेंद्र को यह अवार्ड देकर सम्‍मानित किया।

डॉ. राजेंद्र ने बताया कि उन्‍होंने यूजीसी के शोध परियोजना के तहत रूहेलखंड परिक्षेत्र में पौधों को संक्रमित करने वाली 16 पादप कृमि प्रजातियों की खोज की थी। इन्‍हें किसानों का गुप्‍त शत्रु भी कहा जाता है। यह सूक्ष्‍म कृमि पौधों की जड़ों में रहकर फसल की पैदावार को 40 प्रतिशत कम कर देते है।  साथ ही किसानों की पैदावार बढ़ाने के लिए जड़ों के आसपास मिलने वाले सूक्ष्‍म मित्र की भी खोज की है।

Related News

BAREILLY: स्कूल फीस को लेकर अभिभावक पहुंचे कलेक्ट्रेट और की ये मांग

बरेली: अभिभावक और स्कूल प्रबंधन (School Management) के बीच फीस को लेकर तकरार जारी है। कोरोना महामारी (Corona Epidemic) के चलते पिछले छह महीने...

रिया और शौविक चक्रवर्ती की जमानत याचिका पर आज नहीं होगी सुनवाई, जानिए कारण

सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput) से जुड़े ड्रग्स मामले (Drugs Cases) में रिया चक्रवर्ती की मुश्किलें कम नहीं हो रही है। मंगलवार...

Covid Vaccine: भारत बायोटेक बनाएगी एक अरब कोरोना वैक्सीन

पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी (Corona virus vaccine) से परेशान है। सभी लोगों की आस कोरोना वैक्सीन पर लगी हुई है। इसी बीच कोरोना...

सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता ने शेयर किया फैंस द्वारा भेजे गए मैसेज का वीडियो, और कहीं ये बात

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की बहन श्वेता सिंह कीर्ति (Shweta Singh Kirti) सोशल मीडिया पर लगातार सुशांत के लिए न्याय की मांग...

टाइम मैगज़ीन ने जारी की 100 प्रभावशाली लोगों की सूची, PM मोदी के साथ ये लोग भी हैं शामिल

साल 2020 में दुनिया भर के सबसे प्रभावशाली व्यक्तियों की सूची प्रतिष्ठित मैगजीन 'टाइम' (time magazine) ने जारी कर दी है। टाइस मैग्जीन की...

MJPR University: विवि के नए कुलपति आते ही NAAC की निरीक्षण कमेटी में हुए बदलाव

रुहेलखंड विश्वविद्यालय (Rohilkhand University) में नए कुलपति आते ही NAAC के मूल्यांकन की तैयारी तेजी से होने लगी है। कुलपति ने शोध के मामलों...