inspace haldwani
Home उत्तरप्रदेश बरेली: कारनामा- प्रधान ने अपने रिश्तेदार को करा दिया तालाब पर कब्जा

बरेली: कारनामा- प्रधान ने अपने रिश्तेदार को करा दिया तालाब पर कब्जा

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। सरकारी जमीन की हिफाजत का जिम्मा जिनके सिर पर है वही अपने रिस्तेदारों व समर्थकों को उन पर अबैध कब्जा करवा रहे है। अपने समर्थकों के साथ ही ग्राम की प्रधान ने अपने चचिया ससुर को भी सरकारी तालाब पर कब्जा करा डाला। तालाब पर अबैध कब्जे की शिकायत गांव के लोगों ने तहसील प्रशासन से करते हुए तालाब को कब्जा मुक्त कराने की मांग की है।

मामला यूपी के बरेली की नवाबगंज तहसील के भदपुरा के ग्राम डडिया सफदर अली का है। ग्राम में गाटा संख्या 156 रक्वा 0.285 हेक्टेयर है जो कि सरकारी तालाब है। इस तालाब में गांव के लोग अपने पशुओं को पानी पिलाने, नहलाने के काम में प्रयोग करते थे लेकिन पिछले 3-4 साल से इस तालाब पर लोगों ने कब्जा करना शुरू कर दिया था और उस पर पक्के निर्माण भी कर लिए। गांव के जय देव   रामपाल   मिश्री लाल   चोखे लाल  गेंदन लाल  वीरेन्द्र   सर्वेश   अजय कुमार   अरविंद कुमार   संतोष कुमार वीरपाल   सुशील कुमार   जागन लाल आदि ने तो तालाब पर अबैध कब्जा किया ही प्रधान ने अपने चचिया ससुर भगवान दास और हरदयाल को भी तालाब पर कब्जा करा डाला।

लगभग पौने पांच बीघे का तालाब आज आधे से भी कम रकबे का रह गया है। तालाब पर बढ़ते कब्जों के चलते गांव के पप्पू लाल सूरज पाल के साथ ही आधा दर्जन से अधिक लोगों ने तहसील प्रशासन को शिकायती पत्र देकर कई बार तालाब को कब्जा मुक्त करने की मांग की लेकिन तहसील प्रशासन ने तालाब से कब्जा हटवाना तो दूर मौके पर जाना भी उचित नही समझा।

सबसे खास बात यह है कि गांव के लेखपाल और प्रधान ने इन अवैध कब्जा धारकों के खिलाफ कोई भी कार्यवाही नहीं की है जिससे इनके हौसले बुलंद हैं। गांवों के तालाबों व कुंओं को कब्जा मुक्त कराने के लिए हाईकोर्ट के साथ ही माननीय सुप्रीमकोर्ट ने पाटे गए तालाबों को पुरानी अवस्था में लाने के आदेश राज्य सरकारों को दिए हैं। माननीय न्यायालय के आदेश पर अमल करते हुए प्रदेश सरकार ने कई बार प्रशासन को तालाबों, कुओ को कब्जा मुक्त कराने के कड़े निर्देश भी दिए लेकिन राजस्व कर्मियों के कानों में इन निर्देशों की आवाज भी नहीं पहुंच पा रही है।

प्रशासनिक मशीनरी के उदासीन रवैए के चलते तालाब व कुए कब्जा मुक्त होने की जगह शेष बचे तालाबों पर भी कब्जे होना जारी हैं। इन कब्जे के बारे में प्रधान का कार्य कर रहे उनके पुत्र रिंकू से बात की गई तो उन्होंने बताया कि हमारे कार्यकाल के दो तीन महीने बचे हैं गांव के लोगों से बुराई लेगे तो आगे चुनाव में हमारा नुकसान हो जाएगा। लेखपाल आलोक कुमार से बात करने की कई बार कोशिश की लेकिन उन्होंने फोन ही रिसीव नहीं किया।

Related News

बरेली में नक्शा पास कराना हुआ महंगा,  अब प्रति वर्ग मीटर इतना हुआ शुल्क

न्यूज टुडे नेटवर्क। राज्य सरकार ने विकास प्राधिकरण में नक्शा पास कराने को लिया जाने वाला विकास शुल्क महंगा कर दिया है। हालांकि प्रदेश...

गणतन्त्र दिवसः पहली बार आकाश में राफेल विमान ने दिखाए करतब

न्यूज टुडे नेटवर्क। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली मे गणतंत्र दिवस के मौके पर आयोजित परेड में मनमोहक झांकियों के साथ पूरे देश की झलक दिखाई...

बरेली: जानिए हत्या के आरोपियों को जेल ले जाने के बदले अस्पताल क्यों ले गई पुलिस

न्यूज़ टुडे नेटवर्क। दहेज हत्या मामले में पुलिस ने सोमवार को आरोपी सास, ससुर को गिरफ़्तार कर लिया पर गिरफ्तारी के बाद उनकी तबियत...

बरेली: शिक्षक पति दहेज के लिये पत्नी को कर रहा प्रताड़ित, बताई क्रिमिनल हिस्ट्री

न्यूज टुडे नेटवर्क। शिक्षक पति ने दहेज के लिए पत्नी को घर से निकाल दिया। महिला के मयकों वालों को धमकाकर अपने परिवार की...

बरेली : विवाह में भी फर्जीवाड़ा, पैसे लेकर सिर्फ प्रमाण-पत्र जारी कर रही ये संस्था, पुलिस ने की ये कार्रवाई

न्यूज टुडे नेटवर्क। जिले में एक ऐसी संस्था की शिकायत हुई है जो शादी की रस्म कराए बिना प्रमाण पत्र जारी कर रही है।...

पीलीभीत : गन्ने के खेत में मजदूर को खींच ले गया बाघ, ये कर डाला हाल

न्यूज टुडे नेटवर्क। चारा लेने गए गौडी मजदूर पर बाघ ने हमला कर मौत के घाट उतार दिया है मजदूरों के शोर मचाने पर...