iimt haldwani

फरीदाबाद- सांसद बलूनी ने शुरू की फरीदाबाद-कोटद्वार बस सेवा, जनता बोली थैंक यू सर

383

उत्तराखंड में लगातार सांसद अनिल बलूनी अपनी कार्यकुशलता से हर दिन कुछ ना कुछ नया काम कर रहे हैं । पहले काठगोदाम- देहरादून इंटरसिटी ट्रेन , मसूरी में पेयजल योजना, पहाड़ी इलाकों में ट्रामा सेंटर बनाए जाने के लिए स्वास्थ्य सेवाएं, कॉर्बेट के लिए नई योजनाएं और अब परिवहन क्षेत्र में काफी बड़ा काम किया है। लगातार पौड़ी और रामनगर के कोटद्वार क्षेत्र से फरीदाबाद जाने वालों के लिए आ रही समस्याओं को देखते हुए सांसद अनिल बलूनी ने हरियाणा परिवहन मंत्री के साथ मिलकर आज कोटद्वार के लिए बस सेवा शुरू की है।आज उत्तराखंड से राज्यसभा सांसद और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी ने फरीदाबाद (हरियाणा) से सीधे कोटद्वार के लिए बस सेवा को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया , साथ ही इसी सप्ताह रामनगर के लिए भी सीधी बस सेवा प्रारंभ हो जाएगी ।

amarpali haldwani

Mp anil balooni and haryana transport minister krishna lal panwar

आज बाल भवन एनआईटी में हरियाणा परिवहन मंत्री कृष्णा लाल पवार और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने कोटद्वार के लिए बस सेवा शुरू की है। अनिल बलूनी के बताया कि जल्द ही वह रामनगर में फरीदाबाद के लिए जल्द ही हरियाणा परिवहन निगम की एक और बस शुरू कराएंगे।

Haryana transport corporation, faridabad to kotdwar bus service

कुछ दिन पूर्व फरीदाबाद (हरियाणा) के प्रवासियों ने सांसद बलूनी से भेंट कर उन्हें रामनगर और कोटद्वार तक सीधी बस सेवा का अनुरोध किया था । अभी तक उन्हें दिल्ली से ही पहाड़ों की बस सेवा मिलती थी ।

सांसद बलूनी ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी से उक्त विषय में चर्चा की और आज हरियाणा के परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार की उपस्थिति में बलूनी ने फरीदाबाद से कोटद्वार के लिए सीधी बस सेवा को हरी झंडी दिखाई। इसी सप्ताह रामनगर के लिए भी सीधी बस सेवा प्रारंभ हो जाएगी।

फरीदाबाद बाल भवन बस स्टैंड पर सैंकड़ों उत्तराखंडी प्रवासियों, पार्टी कार्यकर्ताओं, हरियाणा सरकार और परिवहन विभाग के अधिकारियों की उपस्थिति में उक्त कार्यक्रम संपन्न हुआ ।

प्रवासी संस्थाओं ने बलूनी का आभार प्रकट किया कि लंबे समय से वे उक्त मांग के लिए संघर्ष कर रहे थे और श्री बलूनी के माध्यम से उन्हें सीधी बस सेवा की सुविधा प्राप्त हुई है। फरीदाबाद और उसके निकट पलवल, बल्लभगढ़ और बदरपुर बॉर्डर क्षेत्र में लाखों की संख्या में उत्तराखंड मूल के प्रवासियों की भारी संख्या निवास करती है।