पार्टी अब 2024 में फसल काटने के लिए खाद डाल रही है : ओडिशा भाजपा नेता

भुवनेश्वर, 21 सितंबर (आईएएनएस)। ओडिशा विधानसभा में विपक्ष के नेता जयनारायण मिश्रा ने चुनाव की तुलना फसल की खेती से करते हुए मंगलवार को कहा कि भाजपा अब 2024 के चुनावों में फसलों की कटाई के लिए खाद का इस्तेमाल कर रही है।
 | 
पार्टी अब 2024 में फसल काटने के लिए खाद डाल रही है : ओडिशा भाजपा नेता भुवनेश्वर, 21 सितंबर (आईएएनएस)। ओडिशा विधानसभा में विपक्ष के नेता जयनारायण मिश्रा ने चुनाव की तुलना फसल की खेती से करते हुए मंगलवार को कहा कि भाजपा अब 2024 के चुनावों में फसलों की कटाई के लिए खाद का इस्तेमाल कर रही है।

मिश्रा ने 2024 के आम चुनाव के लिए पार्टी की तैयारी के बारे में मीडियाकर्मियों से बात करते हुए यह टिप्पणी की। इससे पहले, सोमवार को उन्होंने नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की।

किसान पृष्ठभूमि से आने वाले मिश्रा ने कहा, किसी फसल की खेती एक दिन में नहीं की जा सकती। अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए सही समय पर बीज बोना चाहिए, खेत की सिंचाई करनी चाहिए, खर-पतवार निकालना चाहिए और उर्वरकों का प्रयोग करना चाहिए।

chaitanya

उन्होंने आगे कहा, हम अब उर्वरक डालने के चरण में हैं और 2024 में हम फसल काटेंगे।

भाजपा विधायक ने यह भी कहा कि ओडिशा में सीबीआई और ईडी जांच की जरूरत है, क्योंकि राज्य में भ्रष्टाचार चरम पर है। हालांकि उन्होंने कहा कि वह यह नहीं बता सकते कि केंद्रीय एजेंसियां ऐसा करने जा रही हैं या नहीं।

दूसरी ओर, कांग्रेस और सत्तारूढ़ बीजद ने मिश्रा की टिप्पणी के लिए उनकी आलोचना की और कहा कि 2024 का चुनाव परिणाम बताएगा कि ओडिशा में फसल काटने वाला कौन है।

कांग्रेस विधायक ताराप्रसाद बाहिनीपति ने कहा, वे खाद कहां डालेंगे और फसल कैसे पैदा करेंगे, क्योंकि खेत में बीज अभी डाला ही नहीं है। 2024 का परिणाम दिखाएगा कि किसने खाद डाला और फसल काटा।

ओडिशा में सीबीआई और ईडी की जांच पर टिप्पणी करते हुए बहिनीपति ने कहा कि केंद्रीय एजेंसियां उन राज्यों में नहीं जा रही हैं, जहां भाजपा को चुनौती का सामना करना पड़ रहा है।

इसी तरह, बीजद नेता और विधानसभा में सरकार के मुख्य सचेतक प्रशांत मुदुली ने कहा, हाल ही में संपन्न पंचायत चुनाव और कई उपचुनावों के परिणाम एक स्पष्ट संदेश देते हैं कि लोग सत्तारूढ़ बीजद के साथ हैं और वे हमारे साथ रहेंगे।

--आईएएनएस

पीटी/एसजीके