पाकिस्‍तानी ठग: पूछते हैं बनोगे करोड़पति और बना देते हैं रोडपति, जानिए क्‍या है पूरा मामला

पाकिस्‍तानी ठग: सोनी टीवी (Sony TV)  के सीरियल कौन बनेगा करोड़पति (Kaun Banega Crorepati) में अमिताभ बच्‍चन लोगों को करोड़पति बना रहे हैं। मगर, कुछ ऐसे लोग भी हैं जो भोले भाले लोगों को करोड़पति बनाने का लालच देकर रोडपति बनाने पर तुले हैं। दिल्‍ली पुलिस ने एक ऐसे ही गिरोह के तीन सदस्‍यों को गिरफ़तार किया है। इस गिरोह का मास्‍टरमाइंड पाकिस्‍तानी (Pakistani Mastermind) बताया जा रहा है।
frauds
वीरेन्‍द्र सहवाग के शहर की महिला ने पुलिस से की शिकायत
दिल्ली के नजफगढ़ की एक महिला ने पुलिस से शिकायत की कि कौन बनेगा करोड़पति लॉटरी स्कीम के नाम पर उनसे 45 लाख रुपये ठग लिए गए हैं। महिला ने बताया कि उनके पास एक नंबर से फोन आया था कि उनका नंबर कौन बनेगा करोड़पति लॉटरी के लिए चुन लिया गया है। उन्होंने 25 लाख रुपये जीते हैं। कॉल करने वाले ने उनसे व्हाट्सएप कॉल के जरिए बातचीत की थी। पैसे क्लीयर कराने के नाम पर उनसे कुछ पैसे जीएसटी और अन्य टैक्स को चुकाने के लिए मांगे गए।

ठग ने महिला को कुछ भारतीय बैंक अकाउंट नंबर दिए, जिनमें उन्हें पैसे जमा कराने के लिए कहा गया। महिला के पैसे जमा करवा देने के बाद उन्हें बताया गया कि उन्होंने अब 25 नहीं, बल्कि 45 लाख रुपये जीत लिए हैं और इसके लिए अतिरिक्त पैसे चाहिए।

महिला ने ये पैसे भी विभिन्न खातों में जमा करवा दिये। इसके बाद बदमाशों ने उन्हें बताया कि अब वे 75 लाख रुपये जीत चुकी हैं। इसके लिए भी उन्होंने मांगी गई रकम जमा करवा दी। इसके बाद बार-बार के प्रयास के बाद भी उन नंबरों पर किसी से बात नहीं हो पाई, जिनसे फोन कर उन्हें लॉटरी जीतने की सूचना दी जाती रही थी।

व्हाट्सएप से कॉल करते हैं ठग, पुलिस के लिए बने चुनौती
बदमाशों ने सभी कॉल व्हाट्सएप के जरिए की थीं। इनका विवरण पाना कठिन होता है। बैंकों की डिटेल भी मिलने में मुश्किल आ रही थी। लेकिन आखिरकार पुलिस ने गहरी छानबीन के बाद उन खातों का पता लगा लिया, जिनमें पैसों की लेनदेन की गई थी। इनके माध्यम से पुलिस बदमाशों तक पहुंच गई।

पुलिस ने दबोचे ठग तो खुला मामला
बिहार के गोपालगंज के रहने वाले तीन युवक इम्तियाज अली (20 वर्ष), इरफान अली (20 वर्ष) और संतोष कुमार (22 वर्ष) पिछले साल दिल्ली आए थे। उन्होंने अपने लिए यहां काम-धंधा तलाशने की कोशिश की। इस दौरान वे जामिया नगर और बाटला के विभिन्न इलाकों में रहे।यहां उनकी पहचान कुछ ऐसे लोगों से हुई जो पहले से ही पाकिस्तान से चल रही ठगी के जरिए ‘कमाई’ कर रहे थे।

इन लोगों के संपर्क में आकर इन युवकों ने भी इसी अपराध में अपना भविष्य तलाशने की कोशिश की जो उन्हें जेल की कोठरी तक ले गई। पुलिस के मुताबिक ये लोग पाकिस्तानी गैंग के हैंडलर के लिए काम करते थे। ये लोग उनके लिए बैंक खाते जैसी चीजें उपलब्ध कराते थे। इसके बदले में इन्हें ठगी गई रकम का 25 फीसदी हिस्सा दिया जाता था

कई महीनों से लोगों को ठग रहा था गैंग
पुलिस के मुताबिक यह गैंग कई महीने से चल रहा था। पुलिस इन ठगी के शिकार लोगों का पता लगाने की कोशिश कर रही है। पुलिस को जानकारी मिली है कि इसी गैंग की एक साजिश में ओडिशा के एक युवक ने 70 हजार रुपये गंवा दिये थे। बाद में उस युवक ने अपना एक वीडियो बनाया और इस साजिश के बारे में बताया। ठगी से निराश युवक ने बाद में आत्महत्या कर ली थी।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें