inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून-जनता के मिजाज को भापकर फैसले लेते हैं त्रिवेंद्र,इसीलिए लगी ऐसे भ्रष्टाचार...

देहरादून-जनता के मिजाज को भापकर फैसले लेते हैं त्रिवेंद्र,इसीलिए लगी ऐसे भ्रष्टाचार पर पूरी तरह लगाम

रुद्रपुर: जिला पंचायत का लदान ढुलान ठेकेदार इस तरह हुआ ब्लेक लिस्टेड, डीएम बरेली भी करेंगे यह जांच

रुद्रपुर। जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी ने लदान ढुलान के ठेकेदार शशांक चांडक को शासन द्वारा गठित जांच समिति की रिपोर्ट आने तक...

देहरादून- उत्तराखंड में आज कोरोना से हुई इतनी मौते, इस जिले में मिले सबसे अधिक पॉजिटिव केस

उत्तराखंड में आज 530 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में आंकड़ा बढ़कर 73527 हो गया है। जबकि 5 लोगों की...

देहरादून- सीएम त्रिवेन्द्र ने यहां किया पराई सत्र का शुभारंभ, की डोईवाला प्लांट के आधुनिकीकरण की घोषणा

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुक्रवार को शुगर कम्पनी लिमिटेड डोईवाला के पराई सत्र 2020-21 का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि पिछले...

देहरादून- जाने क्या है उत्तराखंड के इस पद्मश्री सम्मान विजेता की कहानी, क्यो सरकार ने दिया खास सम्मान

आदित्य नारायण पुरोहित एक भारतीय वैज्ञानिक और प्रोफेसर हैं, जिन्होंने मुख्य रूप से पेड़ की प्रजातियों और उच्च ऊंचाई वाले औषधीय पौधों के शरीर...

रुद्रपुर: हाइवे पर किसानों ने जमाया डेरा, बेहड़ ने समर्थन देकर कही यह बात

रुद्रपुर । किसान विरोधी अध्यादेशों के खिलाफ प्रदर्शन करने दिल्ली जा रहे तराई के किसानों को रुद्र बिलास चीनी मिल के पास पुलिस द्वारा...

देहरादून। राज्य का विकास और जन कल्याण। यही दो सूत्र वाक्य हैं जिन्हें आधार बनाकर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत अपना राजकाज चला रहे हैं। प्रदेश में भ्रष्टाचार पर प्रभावी अंकुश है। नौकरशाही के पेंच कसे हुए हैं और कानून व्यवस्था पटरी पर है। जनता भी सरकार के कामकाज से संतुष्ट दिखती है। पिछले साढ़े तीन वर्ष के दौरान अपना मत प्रकट करने के लिए जनता को पांच मौके मिले, जिनमें मतदाताओं ने ‘त्रिवेन्द के नेतृत्व’ पर दिल खोलकर मुहर लगाई। बावजूद इसके विरोधी गुट त्रिवेंद्र के खिलाफ साजिशों का तानाबाना बुनता रहा और हर बार उसे मुँह की खानी पड़ी।

18 मार्च 2017 को त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री का पदभार संभाला। इसके लगभग एक साल बाद फरवरी 2018 में थराली के भाजपा विधायक गोविन्द लाल शाह का आकस्मिक निधन हो गया। रिक्त सीट पर उपचुनाव हुए तो तकरीबन सभी विरोधी दलों ने एकजुट होकर त्रिवेंद्र के शासन को चुनाव में चुनौती दी। दिलचस्प मुकाबले में बाजी भाजपा के हाथ लगी। इसके बाद नवम्बर 2018 में प्रदेश में नगर निकाय चुनाव का ऐलान हो गया। विकास और सुशासन के मुद्दे को लेकर भाजपा चुनावी मैदान में उतरी। जनता ने एकतरफा समर्थन देते हुए भाजपा को बड़ी जीत दिलवाई। चार महीने बाद ही देश में लोकसभा चुनाव की घोषणा हो गई। अप्रैल 2019 में लोकसभा चुनाव में उत्तराखंड में सभी 5 सीटें बीजेपी के खाते में गईं।

देखिये कैसे जनता का कैसे मिलता हैं समर्थन

साफ़ है कि केंद्र सरकार के साथ जनता ने त्रिवेंद्र सरकार के कामकाज को भी सहर्ष स्वीकार किया। इतना ही नहीं कैबिनेट मंत्री प्रदेश पंत का निधन होने से जून 2019 में पिथौरागढ़ विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुआ। भाजपा को इसमें रिकॉर्ड जीत हासिल हुई। फिर आम पंचायत चुनाव का बिगुल बज गया। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अगुवाई में पंचायत चुनाव में भी बीजेपी ने अपना परचम लहराया। इस तरह जनता की अदालत में पांच बार त्रिवेंद्र सरकार ऑनर्स मार्क्स से पास हुई। आम आदमी ने बार-बार त्रिवेंद्र सरकार पर भरोसा जताया। लेकिन जन फैसले के उलट साढ़े तीन साल की इस अवधि में त्रिवेंद्र के खिलाफ षड्यंत्र भी खूब हुए। उनकी कुर्सी हिलाने को अपने कुछ लोग ‘विभीषण’ हो गए।

Tivendra singh rawat

एकजुट हुए विरोधियों की बैठकों के कई दौर चले। सिर से सिर मिलकर साजिशें रची गईं। मुख्यमंत्री बदलने को हर फंडा अपनाया गया। त्रिवेंद्र के खिलाफ ठोस मुद्दे की तलाश की गई, पर ढूंढने से भी विरोधियों को कोई मुद्दा नहीं मिला। पांच साल पहले झारखण्ड में प्लांट किये गए एक कथित मामले को हर बार नए तरीके से पेशकर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की छवि ख़राब करने के प्रयास होते रहे हैं। इतना जरूर है कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र की ईमानदार छवि, कड़क मिजाज और पारदर्शी राजकाज को देखते हुए भाजपा का हाईकमान उनके साथ न सिर्फ मजबूती से खड़ा है बल्कि उनको लेकर अड़ा भी है। माफिया और भ्रष्टाचारियों के नापाक गठजोड़ को जनता भांप चुकी है। आमजन का कहना है कि विरोधियों की हर साजिश के बाद त्रिवेंद्र मजबूत होकर उभर रहे हैं। माफिया उन पर ‘वार’ कर रहा है और जनता लगातार उन्हें ‘मजबूत’ बना रही है।

 

Related News

रुद्रपुर: जिला पंचायत का लदान ढुलान ठेकेदार इस तरह हुआ ब्लेक लिस्टेड, डीएम बरेली भी करेंगे यह जांच

रुद्रपुर। जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी ने लदान ढुलान के ठेकेदार शशांक चांडक को शासन द्वारा गठित जांच समिति की रिपोर्ट आने तक...

देहरादून- उत्तराखंड में आज कोरोना से हुई इतनी मौते, इस जिले में मिले सबसे अधिक पॉजिटिव केस

उत्तराखंड में आज 530 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में आंकड़ा बढ़कर 73527 हो गया है। जबकि 5 लोगों की...

देहरादून- सीएम त्रिवेन्द्र ने यहां किया पराई सत्र का शुभारंभ, की डोईवाला प्लांट के आधुनिकीकरण की घोषणा

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुक्रवार को शुगर कम्पनी लिमिटेड डोईवाला के पराई सत्र 2020-21 का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि पिछले...

देहरादून- जाने क्या है उत्तराखंड के इस पद्मश्री सम्मान विजेता की कहानी, क्यो सरकार ने दिया खास सम्मान

आदित्य नारायण पुरोहित एक भारतीय वैज्ञानिक और प्रोफेसर हैं, जिन्होंने मुख्य रूप से पेड़ की प्रजातियों और उच्च ऊंचाई वाले औषधीय पौधों के शरीर...

रुद्रपुर: हाइवे पर किसानों ने जमाया डेरा, बेहड़ ने समर्थन देकर कही यह बात

रुद्रपुर । किसान विरोधी अध्यादेशों के खिलाफ प्रदर्शन करने दिल्ली जा रहे तराई के किसानों को रुद्र बिलास चीनी मिल के पास पुलिस द्वारा...

उत्तराखंड- मुख्यसचिव ओमप्रकाश ने प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों को दिये ये कड़े निर्देश, आम जनता को ऐसे होगा फायदा

आम नागरिक को उत्तराखंड के सरकारी विभागों में काम कराने और लेन-देन के लिए एड़ियां नहीं घिसनी पड़ेंगी। मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने वीडियो कांफ्रेंसिंग...