तीनों सेनाओं का संयुक्त अभ्यास एम्फेक्स 2023, लड़ाकू विमान, तोपखाना शामिल

नई दिल्ली, 24 जनवरी (आईएएनएस)। तीनों सेनाओं के द्विवार्षिक जल-थल-नभ अभ्यास एम्फेक्स 2023 का सफल आयोजन किया गया। इस अभ्यास कार्यक्रम में तीनों सेनाओं की संयुक्त क्षमताओं को परखा गया। अभ्यास में तोपखाने, बख्तरबंद वाहन, भारतीय वायुसेना के जगुआर लड़ाकू विमान और सी 130 विमान शामिल हुए। एम्फेक्स का उद्देश्य जल-थल-नभ सेनाओं की आपसी पारस्परिकता और तालमेल को बढ़ाना, इसके लिए सहयोग सहित संचालन के विभिन्न पहलुओं में तीनों सेनाओं के विभिन्न घटकों को संयुक्त प्रशिक्षण प्रदान करना है।
 | 
नई दिल्ली, 24 जनवरी (आईएएनएस)। तीनों सेनाओं के द्विवार्षिक जल-थल-नभ अभ्यास एम्फेक्स 2023 का सफल आयोजन किया गया। इस अभ्यास कार्यक्रम में तीनों सेनाओं की संयुक्त क्षमताओं को परखा गया। अभ्यास में तोपखाने, बख्तरबंद वाहन, भारतीय वायुसेना के जगुआर लड़ाकू विमान और सी 130 विमान शामिल हुए। एम्फेक्स का उद्देश्य जल-थल-नभ सेनाओं की आपसी पारस्परिकता और तालमेल को बढ़ाना, इसके लिए सहयोग सहित संचालन के विभिन्न पहलुओं में तीनों सेनाओं के विभिन्न घटकों को संयुक्त प्रशिक्षण प्रदान करना है।

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक एम्फेक्स 23 अभ्यास पहली बार आंध्र प्रदेश के काकीनाडा में आयोजित किया गया और यह अब तक का सबसे बड़ा समन्वित अभ्यास था। पांच दिन तक चले प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान कई संयुक्त अभियान संचालित किए गए, जिसमें बड़ी संख्या में सैनिकों ने हिस्सा लिया।

भारतीय थल सेना और भारतीय नौसेना के फोर्स कमांडरों की उपस्थिति में पूर्वी नौसेना कमान के चीफ ऑफ स्टाफ वाइस एडमिरल संजय वात्स्यायन, एवीएसएम, एनएम ने एक जल-थल-नभ हमले का सफल संचालन कर एम्फेक्स 2023 का समापन किया।

रक्षा मंत्रालय ने इस विषय में जानकारी देते हुए बताया कि इस अभ्यास में भारतीय नौसेना के बड़े प्लेटफॉर्म वाले डॉक (एलपीडी), लैंडिंग शिप और लैंडिंग क्राफ्ट, मरीन कमांडो (मार्कोस), हेलीकॉप्टर तथा विमानों सहित तीनों सेनाओं के कई जहाजों की भागीदारी देखी गई।

chaitanya

भारतीय सेना ने अपने 900 से अधिक सैनिकों के साथ इस अभ्यास में भाग लिया और इस दौरान उनके साथ विशेष बल, तोपखाने तथा बख्तरबंद वाहन भी शामिल थे। भारतीय वायुसेना के जगुआर लड़ाकू विमानों और सी 130 विमानों ने भी अभ्यास में भाग लिया।

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक एम्फेक्स 2023 ने भारत की जल-थल-नभ सैन्य कुशल क्षमताओं का सफलतापूर्वक प्रदर्शन किया और इस दौरान तीनों सेवाओं के संयुक्त संचालन के पूर्ण स्पेक्ट्रम को कवर करने के लिए तीनों सेनाओं के बीच स्थापित उत्कृष्ट समन्वय को प्रदर्शित किया गया।

chaitanya

--आईएएनएस

जीसीबी/एएनएम