तिरुवनंतपुरम की मेयर के जाली पत्र पर एफआईआर दर्ज

तिरुवनंतपुरम, 22 नवंबर (आईएएनएस)। केरल पुलिस ने मंगलवार को तिरुवनंतपुरम की मेयर आर्य राजेंद्रन की शिकायत पर एक प्राथमिकी दर्ज की गई, दरअसल एक जाली पत्र- मेयर द्वारा लिखे जाने का दावा करते हुए- सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जिसके बाद राजनीतिक हंगामा शुरु हो गया।
 | 
तिरुवनंतपुरम की मेयर के जाली पत्र पर एफआईआर दर्ज तिरुवनंतपुरम, 22 नवंबर (आईएएनएस)। केरल पुलिस ने मंगलवार को तिरुवनंतपुरम की मेयर आर्य राजेंद्रन की शिकायत पर एक प्राथमिकी दर्ज की गई, दरअसल एक जाली पत्र- मेयर द्वारा लिखे जाने का दावा करते हुए- सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जिसके बाद राजनीतिक हंगामा शुरु हो गया।

महापौर पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी-मार्क्‍सवादी (सीपीआई-एम) जिला (तिरुवनंतपुरम) के सचिव अनवूर नागप्पन को पत्र लिखने का आरोप लगाया गया है, जिसमें 295 सीपीआई-एम कार्यकर्ताओं की नौकरी को लेकर बात की गई।

जाली पत्र की शुरूआत कॉमरेड के अभिवादन से होती है, और यह बताया जाता है कि विभिन्न पदों पर 295 अस्थायी रिक्तियां हैं..जो निगम से जुड़े स्वास्थ्य विभाग में हैं। पत्र में संभावित उम्मीदवारों की सूची मांगी गई थी। पत्र के वायरल होने के बाद से विपक्षी भाजपा और कांग्रेस राजेंद्रन के इस्तीफे की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

chaitanya

इस घटनाक्रम ने केरल में सत्तारूढ़ पिनाराई विजयन के नेतृत्व वाली सीपीआई-एम सरकार को हिला दिया है। इस मुद्दे पर माकपा के शीर्ष नेता आपस में भिड़ गए और कहा कि अपराध शाखा मामले की प्रारंभिक जांच करेगी। हालांकि, इस पर प्रतिक्रिया देते हुए, विपक्ष ने कहा कि यह कवर अप था, क्योंकि कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई थी।

कड़े विरोध के बाद, आखिरकार मंगलवार को प्राथमिकी दर्ज की गई। सूत्रों के मुताबिक एफआईआर में जालसाजी के आरोप शामिल किए गए हैं और साजिश के आरोप भी शामिल किए जाने की संभावना है। फिलहाल मामले में किसी को आरोपी नहीं बनाया गया है। एक सूत्र ने कहा कि जैसा कि पत्र पहली बार एक प्रमुख स्थानीय समाचार पत्र में छपा था, जांच एक पत्रकार के साथ-साथ स्थानीय सीपीआई-एम नेताओं के साथ शुरू होने की उम्मीद है, जिन्होंने पहले कुछ पार्टी समूहों में पत्र साझा किया था।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम