टी20 में कभी-कभी एंकर की भूमिका निभाना मुश्किल होता है : मोहम्मद रिजवान

नई दिल्ली, 23 जनवरी (आईएएनएस)। पाकिस्तान के विकेटकीपर-बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान ने स्वीकार किया है कि कभी-कभी सबसे छोटे प्रारूप में एंकर की भूमिका निभाना उनके लिए मुश्किल होता है।
 | 
टी20 में कभी-कभी एंकर की भूमिका निभाना मुश्किल होता है : मोहम्मद रिजवान नई दिल्ली, 23 जनवरी (आईएएनएस)। पाकिस्तान के विकेटकीपर-बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान ने स्वीकार किया है कि कभी-कभी सबसे छोटे प्रारूप में एंकर की भूमिका निभाना उनके लिए मुश्किल होता है।

मौजूदा बांग्लादेश प्रीमियर लीग में कोमिला विक्टोरियंस के लिए खेल रहे रिजवान को लगता है कि, जब भी उन्हें टी20 टूर्नामेंट के लिए चुना जाता है, तो उन्हें एंकर की भूमिका निभाने के लिए कहा जाता है, जैसे वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पाकिस्तान के लिए करते हैं।

क्रिकबज ने रिजवान के हवाले से कहा, छोटे से छोटे फॉर्मेट में एंकर का रोल निभाना काफी मुश्किल होता है। मेरा अनुभव क्या कहता है और मुझे पता है कि, जब भी कोई मुझे टीम में रखता है, तो वे मुझसे बल्लेबाज के तौर पर खेलने की भूमिका निभाने की मांग करते हैं।

उन्होंने आगे कहा, मैं हमेशा स्थिति का आकलन करता हूं, प्रतिद्वंद्वी का आकलन करता हूं और पारी को संभालने की जिम्मेदारी देखता हूं। टी20 में हर कोई जानता है कि हमें छक्के मारना पसंद हैं और वे चाहते हैं कि मैं 35-45 गेंदों पर 60-70 रन बनाऊं।

chaitanya

दुनिया के नंबर दो टी20 बल्लेबाज ने कहा कि अन्य प्रमुख बल्लेबाजों के विपरीत वह पारी के बाद के हिस्से में रन गति को तेज करते हैं क्योंकि उनका मानना था कि टी20 प्रारूप में समय का आकलन करना महत्वपूर्ण है।

टीम की मांग पर आगे बात करते हुए उन्होंने कहा, आप स्कोरबोर्ड को देख सकते हैं और देख सकते हैं कि टीम आपसे क्या मांग करती है। मेरे क्रिकेट आदर्श एबी डिविलियर्स हैं और मैं उन्हें और टेस्ट क्रिकेट और टी20 में भी उनके प्रदर्शन को बहुत करीब से देखता हूं और इसलिए मैं भी उनके अनुसार खेलने की कोशिश करता हूं।

chaitanya

--आईएएनएस

एचएमए/एसकेपी