जेल अधिकारियों ने पार्थ चटर्जी को कोई भी विशेष सुविधा देने से किया इनकार

कोलकाता, 6 अगस्त (आईएएनएस)। प्रेसीडेंसी सेंट्रल करेक्शनल होम के वार्ड नंबर 22 का सेल नंबर 2 शुक्रवार रात से कभी पश्चिम बंगाल के दिग्गज मंत्री और तृणमूल कांग्रेस के वर्चुअल सेकेंड-इन-कमांड रहे पार्थ चटर्जी का ठिकाना बन गया है।
 | 
जेल अधिकारियों ने पार्थ चटर्जी को कोई भी विशेष सुविधा देने से किया इनकार कोलकाता, 6 अगस्त (आईएएनएस)। प्रेसीडेंसी सेंट्रल करेक्शनल होम के वार्ड नंबर 22 का सेल नंबर 2 शुक्रवार रात से कभी पश्चिम बंगाल के दिग्गज मंत्री और तृणमूल कांग्रेस के वर्चुअल सेकेंड-इन-कमांड रहे पार्थ चटर्जी का ठिकाना बन गया है।

हालांकि, जेल अधिकारियों ने पूर्व मंत्री के रूप में उनके साथ किसी भी तरह के विशेष या तरजीही व्यवहार से इनकार किया है।

हालांकि, पता चला है कि अलीपुर महिला सुधार गृह के अधिकारियों ने, चटर्जी की करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के प्रति तुलनात्मक रूप से नरम रुख दिखाया है। अर्पिता पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग (डब्ल्यूबीएसएससी) भर्ती अनियमितता घोटाले में चटर्जी के साथ मुख्य आरोपियों में शामिल हैं। दोनों को हाल ही में ईडी ने गिरफ्तार किया था, जिसके बाद अदालत ने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

chaitanya

कारागार विभाग के सूत्रों ने बताया कि चटर्जी की कोठरी में न तो कोई खाट है और न ही कोई कुर्सी। चटर्जी को शुक्रवार की रात को अन्य कैदियों की तरह दो कंबल प्रदान किए थे। इन्हें ओढ़ने और बिछाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, जिसके साथ तकिए भी हैं। हालांकि, सेल में सीलिंग फैन लगाया गया है।

इसके उलट अर्पिता मुखर्जी को अलीपुर सुधार गृह में थोड़ा बड़ा और हवादार कमरा और अलग गद्दा मुहैया कराया गया है। एक अधिकारी ने कहा, इस कमरे का उपयोग मुख्य रूप से हमारी महिला कैदियों के लिए व्यावसायिक पाठ्यक्रम संचालित करने के लिए किया जाता था। लोक धन शोधन अधिनियम की विशेष अदालत से सख्त निर्देश दिया गया था कि उनकी सुरक्षा और बुनियादी सुविधाओं पर अत्यधिक ध्यान दिया जाना चाहिए। जेल कर्मचारी उन पर चौबीसों घंटे नजर रखे हुए हैं।

शुक्रवार की रात, चटर्जी को चपाती और सब्जियां दी गईं, जिसे उन्होंने बिना किसी प्रतिक्रिया के खा लिया। शनिवार की सुबह उन्हें अन्य कैदियों की तरह चाय-रोटी की पेशकश की गई और उसके लिए भी उन्होंने मना नहीं किया। दोपहर के भोजन के लिए उन्होंने फिर से चावल, दाल और सब्जियां खाईं।

दूसरी ओर, हालांकि मुखर्जी ने शुक्रवार की रात को खाना खाने से मना कर दिया, लेकिन शनिवार को उन्होंने नाश्ता और दोपहर का भोजन किया।

चटर्जी और मुखर्जी दोनों अपने-अपने वार्ड में कैदियों के लिए आवंटित किए गए साझा शौचालय का उपयोग कर रहे हैं। दोनों में आम बात यह है कि शुक्रवार की रात जब से उन्हें सुधार गृह लाया गया, तब से दोनों पूरी तरह से खामोश हैं।

शुक्रवार को पीएमएलए कोर्ट द्वारा दोनों के लिए 14 दिनों की न्यायिक हिरासत का आदेश दिए जाने के बाद, तृणमूल कांग्रेस के राज्य महासचिव और पार्टी प्रवक्ता कुणाल घोष पार्थ चटर्जी को संभावित विशेष सुविधा दिए जाने के बारे में मुखर थे। उन्होंने कहा, अगर मुझे पता चलता है कि उनके साथ कोई विशेष व्यवहार किया जा रहा है, तो मैं फिर से अपना विरोध दर्ज कराऊंगा।

--आईएएनएस

एकेके/आरएचए