जेपी कैलिप्सो कोर्ट बनी उ. प्र. रेरा के तहत पूरी होने वाली देश की पहली परियोजना

नोएडा, 5 अगस्त (आईएएनएस)। नोएडा में सैकड़ों ऐसी इमारते हैं जो अधूरी पड़ी हुई हैं। लोग अपने सपनों के घर के लिए अपनी जीवन की जमा पूंजी लगाकर इस आस में बैठे हैं कि कब उन्हें उनके सपनों का घर मिलेगा। उत्तर प्रदेश में पहली बार जब योगी सरकार आई थी तब ही उत्तर प्रदेश में रेरा को यह जिम्मेदारी दी गई कि उत्तर प्रदेश में जितनी भी बिल्डर्स की परियोजनाएं हैं उनका पंजीकरण रेरा में कराया जाए और जिन लोगों के पैसे इन परियोजनाओं में फंसे हुए हैं उन्हें उनका घर दिलवाया जाए।
 | 
जेपी कैलिप्सो कोर्ट बनी उ. प्र. रेरा के तहत पूरी होने वाली देश की पहली परियोजना नोएडा, 5 अगस्त (आईएएनएस)। नोएडा में सैकड़ों ऐसी इमारते हैं जो अधूरी पड़ी हुई हैं। लोग अपने सपनों के घर के लिए अपनी जीवन की जमा पूंजी लगाकर इस आस में बैठे हैं कि कब उन्हें उनके सपनों का घर मिलेगा। उत्तर प्रदेश में पहली बार जब योगी सरकार आई थी तब ही उत्तर प्रदेश में रेरा को यह जिम्मेदारी दी गई कि उत्तर प्रदेश में जितनी भी बिल्डर्स की परियोजनाएं हैं उनका पंजीकरण रेरा में कराया जाए और जिन लोगों के पैसे इन परियोजनाओं में फंसे हुए हैं उन्हें उनका घर दिलवाया जाए।

जेपी बिल्डर के दिवालिया घोषित होने के बाद उसके प्रोजेक्ट को रेरा ने टेकओवर कर लिया और थर्ड पार्टी से बनवाया जिसका ऑक्यूपेशन सर्टिफिकेट रेरा को मिल चुका है और अपने जीवन की कमाई लगाकर अपने सपनों के घर का इंतजार कर रहे लोगों को उनका घर भी मिला है। यह उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे देश में पहली ऐसी परियोजना है जिसे उत्तर प्रदेश रेरा ने टेकओवर किया और समय पर लोगों को उनके घर दिलवाए।

chaitanya

जेपी ग्रीन्स कैलिप्सो कोर्ट फेज - 2 परियोजना के 2 टावरों, 7 व 8, को नोएडा विकास प्राधिकरण से 1 अगस्त 2022 को ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट (ओसी) प्राप्त हो गया। यह उन 14 परियोजनाओं में से पहली परियोजना है जो उ.प्र. रेरा की देखरेख व निगरानी में पूरी की जा रही हैं।

कैलिप्सो कोर्ट परियोजना के टावर 7 व 8 का ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट प्राप्त होने से 148 इकाईयों के आवंटियों को कब्जा देने की प्रक्रिया प्रारम्भ हो जायेगी।

--आईएएनएस

पवन/एसकेपी