चंडीगढ़ प्रशासक ने उत्तर भारत की सबसे बड़ी तैरती सौर परियोजना की शुरूआत की

चंडीगढ़, 23 जनवरी (आईएएनएस)। चंडीगढ़ के प्रशासक और पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने सोमवार को उत्तर भारत की 2000 केडब्ल्यूपी की सबसे बड़ी तैरती सौर परियोजना का उद्घाटन किया।
 | 
चंडीगढ़ प्रशासक ने उत्तर भारत की सबसे बड़ी तैरती सौर परियोजना की शुरूआत की चंडीगढ़, 23 जनवरी (आईएएनएस)। चंडीगढ़ के प्रशासक और पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने सोमवार को उत्तर भारत की 2000 केडब्ल्यूपी की सबसे बड़ी तैरती सौर परियोजना का उद्घाटन किया।

सेक्टर 39 में वाटर वर्क्‍स में 2000 केडब्ल्यूपी का फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट 11.70 करोड़ रुपये की लागत से चालू किया गया है। उन्होंने धनास झील के ऊपर स्थापित 500 केडब्ल्यूपी के तैरते सौर ऊर्जा संयंत्र का भी उद्घाटन किया। इसका निर्माण 3.34 करोड़ रुपये की लागत से किया गया।

एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि, दोनों परियोजनाओं को क्रेस्ट (चंडीगढ़ रिन्यूएबल एनर्जी एंड साइंस एंड टेक्नोलॉजी प्रमोशन सोसाइटी) द्वारा डिजाइन और निष्पादित किया गया है और 20 प्रतिशत मॉड्यूल दक्षता के साथ प्रति वर्ष न्यूनतम 35 लाख यूनिट (केडब्ल्यूएच) उत्पन्न करेगा।

chaitanya

प्रशासक ने धनास झील को फव्वारों से विकसित करने और इसे एक और पर्यटन स्थल बनाने के लिए क्रेस्ट और वन और वन्यजीव विभाग के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने निवासियों से यह भी आग्रह किया कि वह अपने भवनों की छत पर सौर ऊर्जा स्थापित करें ताकि सौर ऊर्जा का दोहन किया जा सके।

chaitanya

चंडीगढ़ की सांसद किरण खेर ने सोलर प्लांट के साथ-साथ फव्वारों के चालू होने पर प्रसन्नता व्यक्त की, जिन्होंने न केवल झील को सुशोभित किया है बल्कि सौर ऊर्जा के दोहन की आवश्यकता पर जागरूकता पैदा करने में भी मदद की है। प्रशासक के सलाहकार धरम पाल ने अनूठी फ्लोटिंग परियोजनाओं के उद्घाटन पर क्रेस्ट के प्रयासों की सराहना की और आशा व्यक्त की कि इस गति से चंडीगढ़ भारत सरकार के भविष्य में 100 प्रतिशत नवीकरणीय ऊर्जा बनने के लक्ष्य को प्राप्त कर सकता है।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम