ग्रेटर नोएडा में बिल्डर की गुंडागर्दी, जबरन काटी सोसाइटी की लाइट, घंटों हुआ हंगामा

ग्रेटर नोएडा, 24 नवंबर (आईएएनएस)। ग्रेटर नोएडा के जेपी अमन सोसाइटी में रहने वाले हजारों लोगों की जान तब आफत में आ गई जब बिल्डर ने मनमाने तरीके से लोगों के फ्लैट की बिजली काट दी। इस सोसाइटी में कुल 4270 फ्लैट बने हुए हैं। सोसाइटी में करीब 2400 परिवार रहते हैं। हाल ही में जेपी अमन सोसाइटी में यूपीपीसीएल के द्वारा मल्टी पॉइंट मीटर की सुविधा दी गई है। जिसके चलते लोगों को नया कनेक्शन लेने अनिवार्य किया गया है। बिल्डर से फ्लैट लेते समय सरकारी बिजली कनेक्शन के लिए सभी फ्लैट ओनर्स से करीब 12 से 14 हजार की रकम जमा करवाई थी।
 | 
ग्रेटर नोएडा में बिल्डर की गुंडागर्दी, जबरन काटी सोसाइटी की लाइट, घंटों हुआ हंगामा ग्रेटर नोएडा, 24 नवंबर (आईएएनएस)। ग्रेटर नोएडा के जेपी अमन सोसाइटी में रहने वाले हजारों लोगों की जान तब आफत में आ गई जब बिल्डर ने मनमाने तरीके से लोगों के फ्लैट की बिजली काट दी। इस सोसाइटी में कुल 4270 फ्लैट बने हुए हैं। सोसाइटी में करीब 2400 परिवार रहते हैं। हाल ही में जेपी अमन सोसाइटी में यूपीपीसीएल के द्वारा मल्टी पॉइंट मीटर की सुविधा दी गई है। जिसके चलते लोगों को नया कनेक्शन लेने अनिवार्य किया गया है। बिल्डर से फ्लैट लेते समय सरकारी बिजली कनेक्शन के लिए सभी फ्लैट ओनर्स से करीब 12 से 14 हजार की रकम जमा करवाई थी।

कई सालों से अमन सोसाइटी में रहे लोगों का कहना है कि अब दोबारा बिल्डर की तरफ से कहा जा रहा है कि सरकारी कनेक्शन के लिए उन्हें 20700 रुपये जमा करने होंगे। इसी बात की लेकर सोसाइटी के लोगो और बिल्डर में विवाद हो गया। जिसके बाद जेपी बिल्डर को दी जाने वाली मेन्टेनेन्स पहले क्रेडिट में हुआ करती थी जिसके लिए बिल्डर ने एक मेल किया था कि 24 तारीख तक अपना बकाया पैसा जमा कर दें और उसके बाद बिजली कट जाएगी। बहुत से लोगों ने बिजली कटने के डर से अपना पिछला बकाया जमा भी कर दिया, लेकिन फिर भी बिल्डर ने गुंडागर्दी करते हुए बिजली काट दी।

chaitanya

परेशान लोगों ने सोसायटी मेटिनेंस दफ्तर पर जाकर हंगामा शुरू कर दिया। लोगो के घंटो हंगामे के बाद बिल्डर की तरफ से आश्वासन दिया गया की लाइट आ जायेगी। लेकिन अधिकारी का वो आश्वासन सिर्फ आश्वासन ही बन कर रह गया कई घंटों तक बिजली नहीं आई तो लोगों ने एक बार फिर से अमन सोसाइटी के दफ्तर पर हल्ला बोला, पुलिस भी मौके पर आई लेकिन उसकी तरफ से भी कोई मदद नहीं मिली।

बिजली पानी लोगों के जीवन की मूलभूत जरूरत है और लोगों का मूलभूत अधिकार है और ये सभी सुविधा उपलब्ध करवाना बिल्डर की जिम्मेदार है, लेकिन बिल्डर आये दिन लोगों के अधिकार से खेल कर जनता को परेशान करते रहते हैं।

--आईएएनएस

पीकेटी/एएनएम