गडकरी ने हरियाणा, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश में सड़क परियोजनाओं को दी मंजूरी

नई दिल्ली, 24 नवंबर (आईएएनएस)। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने हरियाणा में लगभग 1,322 करोड़ रुपये और तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के लिए 573.13 करोड़ रुपये की सड़क परियोजनाओं को मंजूरी दी है।
 | 
गडकरी ने हरियाणा, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश में सड़क परियोजनाओं को दी मंजूरी नई दिल्ली, 24 नवंबर (आईएएनएस)। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने हरियाणा में लगभग 1,322 करोड़ रुपये और तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के लिए 573.13 करोड़ रुपये की सड़क परियोजनाओं को मंजूरी दी है।

ट्वीट की एक सीरीज में उन्होंने कहा, हरियाणा राज्य में भिवानी और हिसार जिलों में भारतमाला परियोजना के तहत एनएच-148बी के भिवानी-हांसी सड़क खंड को 1,322.13 करोड़ रुपये की लागत से चार लेन का बनाने की मंजूरी दी गई है।

उन्होंने कहा, यह परियोजना हरियाणा में तेज आवाजाही और अच्छी अंतर-जिला कनेक्टिविटी प्रदान करेगी।

chaitanya

मंत्री ने कहा, इस खंड के विकास से लंबे मार्ग यातायात और माल ढुलाई की समग्र दक्षता में भी सुधार होगा जो सुगम और सुरक्षित यातायात प्रवाह के साथ-साथ यात्रा के समय में पर्याप्त कमी और वाहन परिचालन लागत (वीओसी) को कम करेगा।

उन्होंने कहा, यह परियोजना हरियाणा में बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देगी जो क्षेत्र के समग्र आर्थिक विकास को गति प्रदान करेगी।

दक्षिणी राज्यों में सड़क परियोजना के बारे में गडकरी ने पोस्ट किया, तेलंगाना के मुलुगु जिले में एनएच-163 के हैदराबाद-भूपालपट्टनम खंड से पेव्ड शोल्डर के साथ मौजूदा दो लेन की सड़क को चौड़ा करने की कुल लागत 136.22 करोड़ रुपये है।

उन्होंने कहा, परियोजना खंड प्रमुख पर्यटन स्थलों जैसे लकनावरम झील और बोगोथा झरनों को जोड़ता है। इस खंड के विकास से तेलंगाना और छत्तीसगढ़ के बीच अंतरराज्यीय संपर्क में सुधार होगा। मंत्री ने कहा कि मुलुगु जिला एक वामपंथी उग्रवाद (एलडब्ल्यूई) प्रभावित जिला है और इस खंड के विकास से सरकार को वामपंथी उग्रवाद गतिविधियों पर नियंत्रण रखने में मदद मिलेगी।

गडकरी ने कहा, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में नागरकुर्नूल जिले में कृष्णा नदी पर प्रतिष्ठित पुल सहित एनएच-167के पर पुनर्वास और उन्नयन को ईपीसी मोड पर 436.91 करोड़ रुपये की कुल लागत से मंजूरी दी गई है।

उन्होंने कहा, एनएच-167के हैदराबाद/कलवाकुर्ती और तिरुपति, नंद्याला/चेन्नई जैसे महत्वपूर्ण स्थलों के बीच की दूरी को लगभग 80 किमी कम कर देगा क्योंकि वर्तमान में एनएच-44 का अनुसरण करने वाला ट्रैफिक पूरा होने के बाद एनएच-167के पर चला जाएगा।

--आईएएनएस

एसकेके/एसकेपी