कड़वे रात्रि भोज से अमेरिका के छुरा घोंपने पर यूरोप का रोष प्रकट होता है

बीजिंग, 24 नवंबर (आईएएनएस)। 21 नवंबर की रात को फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन ने फ्रांस के राष्ट्रपति महल ह्लएलिसी पैलेसह्व में कई यूरोपीय उद्यमियों के लिए रात्रिभोज की मेजबानी की। एरिक्सन, वोल्वो, यूनिलीवर और अन्य कंपनियों के सीईओ मौजूद थे। हालांकि, यह कोई जश्न का रात्रिभोज नहीं था, लेकिन मैक्रोन उन्हें सिर्फ एक संदेश देना चाहते थे यानी रुको, मत जाओ।
 | 
कड़वे रात्रि भोज से अमेरिका के छुरा घोंपने पर यूरोप का रोष प्रकट होता है बीजिंग, 24 नवंबर (आईएएनएस)। 21 नवंबर की रात को फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन ने फ्रांस के राष्ट्रपति महल ह्लएलिसी पैलेसह्व में कई यूरोपीय उद्यमियों के लिए रात्रिभोज की मेजबानी की। एरिक्सन, वोल्वो, यूनिलीवर और अन्य कंपनियों के सीईओ मौजूद थे। हालांकि, यह कोई जश्न का रात्रिभोज नहीं था, लेकिन मैक्रोन उन्हें सिर्फ एक संदेश देना चाहते थे यानी रुको, मत जाओ।

अगले दिन, फ्रांस के वित्त मंत्री ब्रूनो ले मायेर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, हमारी आंखों के ठीक सामने अमेरिका अपनी धरती पर अपना उद्योग विकसित कर रहा है। हमें यूरोपीय कंपनियों के हितों की अधिक मजबूती से रक्षा करनी चाहिए। आज, फ्रांस सहित यूरोप के राजनेता पहले से कहीं अधिक चिंतित हैं कि कंपनियां यूरोप छोड़ देंगी और यूरोप की औद्योगिक प्रणाली को अमेरिका द्वारा खोखला कर दिया जाएगा।

chaitanya

यूरोप में ऊर्जा की बढ़ती कीमतों और उच्च उत्पादन लागत के कारण, यूरोपीय कंपनियां एक गंभीर अस्तित्व संकट का सामना कर रही हैं। फ्रेंच यूनियन ऑफ मेटलर्जिकल इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष एरिक ट्रैपियर के अनुसार, गैस और बिजली के बिल औसतन चार गुना बढ़ सकते हैं। जबकि अमेरिका में अपेक्षाकृत स्थिर ऊर्जा मूल्य है। यूएस इन्फ्लेशन रिडक्शन एक्ट का उपयोग करके स्थानीय कंपनियों को उदार सब्सिडी दी। इसलिए यूरोपीय कंपनियों को एक के बाद एक अमेरिका स्थानांतरित करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

अधिकाधिक यूरोपीय लोग स्पष्ट रूप से देख रहे हैं: यूरोप की रणनीतिक स्वतंत्रता को अवरुद्ध करने के लिए रूस और यूक्रेन के बीच संघर्ष का उपयोग करने से लेकर यूरोपीय विनिर्माण उद्योग को ऊर्जा संकट से लाभ उठाकर खुद का पेट भरने के लिए, ये अमेरिका की कार्रवाइयां हैं! कुछ नेटिजनों ने टिप्पणी की कि अमेरिका न केवल यूरोप का खून चूस रहा है बल्कि यूरोप का मांस भी काट रहा है।

वास्तव में, द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से अमेरिका द्वारा बनाई गई गठबंधन प्रणाली अपने स्वयं के हितों और आधिपत्य की रक्षा करने का एक साधन रही है। अमेरिका फस्र्ट रणनीति सहयोगियों को अलग-थलग कर रही है। यूरोपीय देश सामरिक स्वायत्तता हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं। एक निश्चित संकेत एलिसी पैलेस में रात्रिभोज था।

(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

एएनएम