ओलंपियन सुधा सिंह बनीं पुणे हाफ मैराथन की ब्रांड एंबेसडर

पुणे, 23 नवंबर (आईएएनएस)। पूर्व एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता और अर्जुन पुरस्कार विजेता सुधा सिंह पुणे हाफ मैराथन (बीएपीएचएम) के तीसरे सीजन के लिए ब्रांड एंबेसडर के रूप में शामिल हुईं, जो 27 नवंबर को होने वाली है।
 | 
ओलंपियन सुधा सिंह बनीं पुणे हाफ मैराथन की ब्रांड एंबेसडर पुणे, 23 नवंबर (आईएएनएस)। पूर्व एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता और अर्जुन पुरस्कार विजेता सुधा सिंह पुणे हाफ मैराथन (बीएपीएचएम) के तीसरे सीजन के लिए ब्रांड एंबेसडर के रूप में शामिल हुईं, जो 27 नवंबर को होने वाली है।

3000 मीटर स्टीपलचेज के लिए दो बार की ओलंपियन ने अपने 13 साल के लंबे अंतरराष्ट्रीय करियर के दौरान विभिन्न हाफ मैराथन स्पधार्ओं में भी भाग लिया है। उन्होंने महाद्वीपीय स्तर पर भारत के लिए कई पदक जीते हैं।

पुणे के लॉन्ग डिस्टेंस रनिंग कैलेंडर का मार्की इवेंट बीएपीएचएफ इस साल महामारी से प्रभावित दो साल के अंतराल के बाद वापसी कर रहा है। इसमें पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए हाफ मैराथन श्रेणी में राष्ट्रीय रिकॉर्ड के लिए 10 लाख रुपये ईनाम की घोषणा की है।

chaitanya

एपीजी रनिंग और फिटपेज के सीईओ, विकास सिंह ने कहा, यह वास्तव में बीएपीएचएम के लिए सम्मान की बात है कि इस साल भारत की सबसे बड़ी दूरी की धावकों में से एक सुधा सिंह को ब्रांड एंबेसडर बनाया गया है। बीएपीएचएम एक समान अवसर की दौड़ है। हमें यकीन है कि सुधा की भागीदारी कई और महिलाओं को आगे आने और करियर के रूप में दूरी तय करने के लिए प्रेरित करेगी।

सुधा घरेलू स्तर पर मैराथन में प्रतिस्पर्धा कर रही हैं और हाल ही में महिलाओं की श्रेणी में उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में मैराथन के लिए 37वीं अखिल भारतीय इंदिरा गांधी पुरस्कार राशि जीती हैं।

इस साल, बीएपीएचएम ने अपनी दौड़ श्रेणियों में जीतने के लिए दूसरे सीजन से 21 लाख रुपये से बढाकर लगभग 28 लाख रुपये की पुरस्कार राशि की भी घोषणा की है। बीएपीएचएम भारतीय धावकों को बढ़ावा देगा और इसलिए सभी पुरस्कार केवल भारतीय नागरिकों के लिए आरक्षित हैं। इसमें मुख्य रूप से चार श्रेणियां हैं, जिनमें हाफ मैराथन (21.1 किमी), 10 किमी दौड़, 5 किमी दौड़ और 3 किमी दौड़ शामिल हैं। इस महीने की शुरूआत से ही बीएपीएचएम के लिए पंजीकरण जारी हैं और अब तक 13,000 से अधिक धावकों ने भाग लेने के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है।

--आईएएनएस

आरजे/आरआर