एएफसी महासचिव विंडसर जॉन ने भारतीय फुटबॉल को समर्थन देने का किया वादा

नई दिल्ली, 25 जनवरी (आईएएनएस)। एशियाई फुटबॉल परिसंघ (एएफसी) के महासचिव दातुक सेरी विंडसर जॉन ने बुधवार को यहां खेल मंत्री अनुराग ठाकुर और अन्य अधिकारियों से मुलाकात के बाद भारतीय फुटबॉल के प्रति एशियाई फुटबॉल शासी निकाय के समर्थन का वादा किया और एआईएफएफ के विजन 2047 की प्रशंसा की।
 | 
नई दिल्ली, 25 जनवरी (आईएएनएस)। एशियाई फुटबॉल परिसंघ (एएफसी) के महासचिव दातुक सेरी विंडसर जॉन ने बुधवार को यहां खेल मंत्री अनुराग ठाकुर और अन्य अधिकारियों से मुलाकात के बाद भारतीय फुटबॉल के प्रति एशियाई फुटबॉल शासी निकाय के समर्थन का वादा किया और एआईएफएफ के विजन 2047 की प्रशंसा की।

विंडसर जॉन को राष्ट्रीय राजधानी में खेल मंत्री ठाकुर, भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के महानिदेशक संदीप प्रधान, एआईएफएफ अध्यक्ष कल्याण चौबे और महासचिव शाजी प्रभाकरन के साथ विचार-विमर्श के दौरान विजन 2047 के रणनीतिक रोडमैप के विवरण से अवगत कराया गया।

62 वर्षीय विंडसर जॉन ने हमेशा भारतीय फुटबॉल की प्रगति और प्रचार में गहरी रुचि ली है। उन्होंने जिस तरह से विजन 2047 की योजना बनाई गई है। उसकी सराहना की और आशा व्यक्त की है कि सभी हितधारक इसे सफल बनाने के लिए मिलकर काम करेंगे।

उन्होंने आगे इसके कार्यान्वयन के लिए एशियाई फुटबॉल परिसंघ से पूर्ण समर्थन का वादा किया और अपनी योजनाओं को गति देने के लिए भारतीय फुटबॉल की क्षमताओं के बारे में जिक्र किया।

एएफसी महासचिव ने देश में सुंदर खेल को विकसित करने के भारत के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं दीं और आशा व्यक्त की है कि देश एशियाई फुटबॉल में बड़ा योगदान देगा।

chaitanya

एआईएफएफ अध्यक्ष चौबे ने एक मीडिया विज्ञप्ति में कहा, मैं एएफसी महासचिव और उनकी टीम को भारतीय फुटबॉल को एक नए स्तर पर ले जाने में मदद करने के लिए समर्थन का आश्वासन देखकर बेहद खुश हूं। एएफसी हमेशा एक अच्छा भागीदार रहा है और पूरे एशिया में फुटबॉल को विकसित करने में मदद की है।

chaitanya

एआईएफएफ के महासचिव डॉ प्रभाकरन ने कहा, एएफसी के इस दौरे ने अपने सभी अनुभव और विशेषज्ञता के साथ हमें विश्वास और प्रोत्साहन दिया है कि उनकी मदद से हम अपनी क्षमता को और बढ़ा सकते हैं। भारतीय फुटबॉल को आगे ले जाने के लिए विभिन्न विभागों को शामिल कर सकते हैं।

रणनीतिक रोडमैप पर एएफसी की प्रतिक्रिया प्राप्त करना बहुत अच्छा रहा, जिसे सकारात्मक रूप से लिया गया है। एएफसी को हमेशा भारतीय फुटबॉल की क्षमता पर विश्वास रहा है। भारतीय फुटबॉल और इसके नए नेतृत्व में उनका विश्वास बढ़ा है।

--आईएएनएस

आरजे/आरआर