ईडी का मणिपुर की कंपनी पर शिकंजा: 34 लाख रुपये नकद बरामद, संपत्ति कुर्क

नई दिल्ली, 24 जनवरी (आईएएनएस)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को कहा कि उसने एक पोंजी योजना से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मणिपुर स्थित लामजिंगबा ग्रुप ऑफ कंपनीज के प्रबंध निदेशक सनसम जैकी सिंह के गुरुग्राम, कोलकाता और मणिपुर में आठ स्थानों पर तलाशी ली है।
 | 
नई दिल्ली, 24 जनवरी (आईएएनएस)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को कहा कि उसने एक पोंजी योजना से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मणिपुर स्थित लामजिंगबा ग्रुप ऑफ कंपनीज के प्रबंध निदेशक सनसम जैकी सिंह के गुरुग्राम, कोलकाता और मणिपुर में आठ स्थानों पर तलाशी ली है।

एक अधिकारी ने कहा कि 34 लाख रुपये नकद और विभिन्न आपत्तिजनक दस्तावेज जैसे कि संपत्ति के दस्तावेजों की प्रतियां, निवेशकों की सूची, निवेशकों से एकत्रित धन का विवरण, विदेशी निवेश आदि बरामद और जब्त किए गए हैं।

अधिकारी ने कहा- ये आपत्तिजनक दस्तावेज अपराध की आय की उत्पत्ति, हस्तांतरण और आरोपी सनसम जैकी सिंह और अन्य द्वारा अंतिम उपयोग से संबंधित हैं। आरोपी सनसम जैकी सिंह के 1,34,01,989 रुपये की शेष राशि वाले दो बैंक खातों को भी फ्रीज कर दिया गया।

ईडी ने कहा कि इसके अलावा गुरुग्राम और मणिपुर के इंफाल में स्थित चार अचल संपत्तियों (वाणिज्यिक भवन/भूमि) को भी जब्त किया गया है। सनसम जैकी सिंह को 21 जनवरी को गिरफ्तार किया गया था और अदालत ने ईडी की हिरासत में भेज दिया था।

इससे पहले, ईडी ने इंफाल वेस्ट पुलिस द्वारा आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत दर्ज की गई सात एफआईआर के आधार पर सिंह और अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग जांच शुरू की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि उन्होंने मणिपुर राज्य में 15000 से अधिक निवेशकों को धोखा दिया, गबन किया और निवेशकों के धन की हेराफेरी की।

chaitanya

उन्होंने अत्यधिक रिटर्न के वादे के साथ जनता से 580 करोड़ रुपये से अधिक की भारी मात्रा में धन एकत्र किया था। कंपनी ने वादा किए गए धन को वापस किए बिना 2020 की पहली तिमाही से निवेशकों के लिए अपना दरवाजा बंद कर दिया।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम