इस्लामिक संगठन से खतरे के बाद कर्नाटक मंदिर प्रबंधन ने की सुरक्षा की मांग

बेंगलुरू, 25 नवंबर (आईएएनएस)। अज्ञात इस्लामिक संगठन इस्लामिक रेजिस्टेंस काउंसिल (आईआरसी) की धमकी के बाद कादरी मंजूनाथ मंदिर के प्रबंधन ने अतिरिक्त सुरक्षा की मांग की है। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।
 | 
इस्लामिक संगठन से खतरे के बाद कर्नाटक मंदिर प्रबंधन ने की सुरक्षा की मांग बेंगलुरू, 25 नवंबर (आईएएनएस)। अज्ञात इस्लामिक संगठन इस्लामिक रेजिस्टेंस काउंसिल (आईआरसी) की धमकी के बाद कादरी मंजूनाथ मंदिर के प्रबंधन ने अतिरिक्त सुरक्षा की मांग की है। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

मंदिर की मुख्य कार्यकारी अधिकारी जयम्मा ने इस संबंध में कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले के कादरी पुलिस थाने में शिकायत की। साथ ही पुलिस से आईआरसी द्वारा जारी धमकियों के संबंध में उचित कानूनी कार्रवाई शुरू करने का अनुरोध किया है।

शिकायत में कहा कि हजारों श्रद्धालु प्रतिदिन मंदिर आते हैं और इस खतरे पर गंभीरता से विचार किया जाना चाहिए।

chaitanya

एक अज्ञात इस्लामिक संगठन इस्लामिक रेसिस्टेंस काउंसिल (आईआरसी) ने गुरुवार को 19 नवंबर को मंगलुरु ऑटो विस्फोट की जिम्मेदारी ली और भविष्य में एक और हमले की चेतावनी दी।

आईआरसी ने कहा, हमारे भाई का कादरी हिंदू मंदिर पर हमला करने का प्रयास विफल रहा है। यह हमला सफल नहीं हुआ। राज्य और केंद्रीय एजेंसियां हमारे भाइयों को गिरफ्तार करने की कोशिश कर रही हैं। वे उनका पीछा कर रही हैं। हालांकि, हम एजेंसियों के चंगुल से निकलने में सफल रहे हैं। भविष्य में एक और हमला किया जाएगा।

आईआरसी के बयान में कहा गया है, मंगलुरु भगवा आतंकवादियों का गढ़ बन गया है। हालांकि इस बार हमारे प्रयास विफल हो गए हैं, हम राज्य और केंद्रीय जांच एजेंसियों को चकमा देकर एक और हमले को अंजाम देने के लिए तैयार हो जाएंगे।

संगठन ने एडीजीपी (कानून व्यवस्था) आलोक कुमार को भी चेतावनी दी है, जो मंगलुरु में तैनात हैं और व्यक्तिगत रूप से विस्फोट मामले की जांच की निगरानी कर रहे हैं।

इस बीच, जांच एजेंसियों ने लापता आतंकवादी अब्दुल मतीन ताहा की तलाश तेज कर दी है, जिसे मेंगलुरु ऑटो विस्फोट के पीछे मोहम्मद शरीक का हैंडलर माना जाता है।

--आईएएनएस

पीके/एएनएम