आरएसएस ने तांत्या मामा और बिरसा मुंडा के हत्यारों का समर्थन किया था : राहुल गांधी

भोपाल, 24 नवंबर (आईएएनएस)। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर एक और तीखा हमला करते हुए आरोप लगाया कि जब पूरा देश अंग्रेजों के खिलाफ लड़ रहा था, दक्षिणपंथी अंग्रेजों का समर्थन कर रहे थे।
 | 
आरएसएस ने तांत्या मामा और बिरसा मुंडा के हत्यारों का समर्थन किया था : राहुल गांधी भोपाल, 24 नवंबर (आईएएनएस)। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर एक और तीखा हमला करते हुए आरोप लगाया कि जब पूरा देश अंग्रेजों के खिलाफ लड़ रहा था, दक्षिणपंथी अंग्रेजों का समर्थन कर रहे थे।

राहुल गांधी ने राज्य में भारत जोड़ो यात्रा के दूसरे दिन मध्यप्रदेश के खंडवा जिले में आदिवासियों की एक बड़ी सभा को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की।

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने अपने भाषण में किसी दक्षिणपंथी नेता का नाम लिए बिना आरोप लगाया कि आरएसएस ने उन अंग्रेजों का समर्थन किया था, जिन्होंने दो आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों- तात्यां मामा और बिरसा मुंडा को फांसी दी थी।

chaitanya

उन्होंने कहा कि ये बहादुर आदिवासी नेता अपने समुदाय और देश को बचाने के लिए ब्रिटिश शासन के खिलाफ लड़ रहे थे, जिसके लिए उन्हें फांसी दी गई।

राहुल ने तांत्या मामा की जन्मस्थली खंडवा में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, आज मैं यहां तांत्या मामा के व्यक्तित्व, उनकी वीरता, उनके दृढ़ संकल्प और उनकी निडरता के कारण यहां आपके बीच खड़ा हूं। आप जानते हैं कि तांत्या मामा और बिरसा मुंडा को अंग्रेजों ने फांसी दी थी और आप यह भी जानते हैं कि आरएसएस ने अंग्रेजों का समर्थन किया था।

कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी हमला बोलते हुए कहा कि मोदी ने आदिवासी लोगों के लिए एक नया शब्द वनवासी गढ़ा है।

उन्होंने कहा, कुछ दिन पहले पीएम मोदी ने आपके (आदिवासियों) के लिए एक नए शब्द का इस्तेमाल किया- वनवासी। वे (भाजपा) आपको वनवासी कहते हैं, क्योंकि वे बताना चाहते हैं कि आपके अधिकार केवल वन क्षेत्रों तक ही सीमित हैं, उससे आगे नहीं। यही कारण है कि पीएम मोदी आपको वनवासी कहते हैं। लेकिन कांग्रेस आपको आदिवासी कहती है, जिसका मतलब है कि आप इस देश के सबसे पुराने नागरिक हैं और इसलिए इस देश के हर संसाधन पर आपका पहला अधिकार है, सिर्फ जंगल पर नहीं।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम