inspace haldwani
Home उत्तरप्रदेश बरेली का एक्‍यूआई स्तर जो भी हो मगर आतिशबाजी नहीं बिकी तो...

बरेली का एक्‍यूआई स्तर जो भी हो मगर आतिशबाजी नहीं बिकी तो आत्म हत्या कर लेंगे ,यह किसने कहा, जानिए इस खबर में विस्तार से….

एनजीटी के आदेश दीवाली पर निकाल रहे व्‍यापारियों का दीवाला

बरेली,न्‍यूज टुडे नेटवर्क। आतिशबाजी की बिक्री पर एनजीटी के प्रतिबंध के आदेशों के बाद व्‍यापारियों में इस आदेश से खासा रोष दीख रहा है। किसी ने उधार रूपए लेकर आतिशबाजी खरीद है तो किसी ने ब्‍याज पर रूपए उठा रखे हैं और थोक में आतिशबाजी का सामान खरीद लाए हैं। व्‍यापारियों के हालात यह हैं कि वे ना इधर के हो पा रहे हैं ना उधर के। तमाम आतिशबाजी व्‍यापारी कह रहे हैं कि यदि आतिशबाजी नहीं बिकी तो वे आत्‍महत्‍या करने को मजबूर होंगे। ऐसे में एनजीटी के आदेश दीपावली के मौके पर व्‍यापारियों का दीवाला निकालने का काम कर रहा है।

राज्य सरकार बरेली सहित 15 शहरों में पटाखों की बिक्री और उसके इस्तेमाल पर रोक लगाने जा रही है। एनजीटी के आदेश पर यह कार्रवाई की जा रही है। व्यापारियों में इससे खासा रोष है। उनका कहना है कि ठीक दीपावली से पहले इस फैसले से व्यापारी आत्महत्या करने पर मजबूर होंगे। कोरोना के चलते इस बार शादी का सीजन पूरा खाली निकल गया। इस कारण शादी में बिकने वाली आतिशबाजी रखी की रखी ही रह गई।

इससे पटाखा कारोबारियों को भारी नुकसान हुआ था। पटाखा कारोबारियों की पूरी उम्मीद दीपावली पर टिकी हुई है। इसके लिए उन्होंने स्टॉक मंगवा कर भी रख लिया था। थोक की 22 दुकानों में कम से कम 25 करोड़ का स्टॉक आया हुआ है। धीरे धीरे कर बिक्री भी तेज होने लगी है। ऐसे में सरकार और एनजीटी के रुख से कारोबारियों में बेहद नाराजगी है।

उनका कहना है कि त्योहार से चंद दिन पहले इस तरह का फैसला व्यापारियों के लिए आत्मघाती कदम उठाने को मजबूर करेगा। सरकार को यह सोचना चाहिए कि महज दो-चार घंटे की आतिशबाजी में प्रदूषण इतना अधिक नहीं बढ़ जाएगा। यदि रोक लगानी थी तो यह फैसला छह महीने पहले होना चाहिए था। ताकि व्यापारी स्टॉक ही नहीं मंगवाते।

आत्महत्या पर मजबूर होंगे व्यापारी
बरेली आतिशबाजी थोक व्यापार संघ के अध्यक्ष कृष्णदेव सूद ने कहा कि बरेली का एक्यूआई 250 260 के आस-पास रह रहा है। ऐसी स्थिति में रोक लगाने का फैसला बिल्कुल गलत है। व्यापारियों ने ब्याज पर पैसा लेकर स्टॉक खरीदा है। यदि बिक्री नहीं हुई तो वे आत्महत्या करने पर मजबूर होंगे।

व्यापारियों के ऊपर है अत्याचार
पश्चिमी उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के मंडल प्रभारी आशीष सिंघल ने कहा कि सरकार का फैसला समझ से परे है। लॉक डाउन की मार खाए व्यापारियों के ऊपर यह अत्याचार है। जब व्यापारी अपना सब कुछ दांव पर लगा कर स्टॉक खरीद चुका है तब उस पर रोक लगा देने का फैसला न्याय संगत नहीं है।

Related News

बरेली: गैस रिसाव होने से खाना बनाते वक्‍त झुलसी बच्‍ची, कही आप भी तो ऐसी गलती नही कर रहे है

न्‍यूज टुडे नेटवर्क, बरेली। शहर के थाना कोतवाली के अन्‍तर्गत बिहारीपुर चौकी के पीछे रहने वाले महेन्‍द्र के घर रसोई गैस का पाईप खराब...

बरेली: हाथ में टंगा था हेल्‍मेट, एक्‍सीडेंट हुआ और कुचल गया सिर

न्‍यूज टुडे नेटवर्क, बरेली। बिना हेल्‍मेट बाइक चलाना एक युवक को खासा महंगा पड़ा है। यातायात नियमों की अनदेखी के कारण बाइक सवार मामा-भांजे...

Bareilly-महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद को पुण्‍यतिथि पर नारायण कॉलेज में दी गई श्रद्धांजलि

न्‍यूज टुडे नेटवर्क, बरेली। महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की पुण्‍यतिथि पर शनिवार को रिठौरा स्थित नारायण कॉलेज कैंपस में विद्यार्थियों ने दो मिनट का...

गोरखपुर में बब्बर शेर की दहाड: सीएम योगी जल्द देने वाले हैं चिडि़याघर की सौगात

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। मजबूत ढांचागत सुविधाएं, खेती किसानी, स्वास्थ्य, उद्योग, रोजगार, पर्यटन समेत विकास के पैमाने पर हर क्षेत्र में चमक बिखेर रहे गोरखपुर...

Bareilly-गर्लफ्रेंड को घुमाने के लिये भांजा चोरी कर लाया बाइक, फिर मामा भी फंसा

न्‍यूज टुडे नेटवर्क, बरेली। शहर में वाहन चोरी की घटना थमने का नाम नहीं ले रही है। अपनी गर्लफेंड को घुमाने के लिए एक...

कोरोना के बचाव व उपचार की व्यवस्था प्रभावी रखेें अफसर: सीएम योगी

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में  कोरोना संक्रमण की स्थिति नियंत्रण में है लेकिन इसके बचाव...