आईआईटी-जी में इस वर्ष दाखिला लेंगे 1,000 से अधिक बी.टेक फ्रेशर्स

नई दिल्ली, 5 अगस्त (आईएएनएस)। आईआईटी गुवाहाटी के कैंपस में इस वर्ष नवंबर तक 8,700 से अधिक छात्र होंगे। इसमें अनुमानित 1,000 से अधिक बी.टेक फ्रेशर्स, राष्ट्रीय महत्व के इस संस्थान में वर्ष 2022 में दाखिला लेंगे। खास बात यह है कि इन सभी छात्रों के लिए अब जाकर भौतिक मोड में कक्षाएं फिर से शुरू की जा सकी हैं। आईआईटी द्वारा लिए गए निर्णय के मुताबिक जुलाई 2022-23 सेमेस्टर पूरी तरह से ऑफलाइन आयोजित किया जा रहा है। महामारी के दौरान दाखिला लेने वाले छात्र अब जाकर ऑफलाइन कक्षाओं में भाग ले रहे हैं।
 | 
आईआईटी-जी में इस वर्ष दाखिला लेंगे 1,000 से अधिक बी.टेक फ्रेशर्स नई दिल्ली, 5 अगस्त (आईएएनएस)। आईआईटी गुवाहाटी के कैंपस में इस वर्ष नवंबर तक 8,700 से अधिक छात्र होंगे। इसमें अनुमानित 1,000 से अधिक बी.टेक फ्रेशर्स, राष्ट्रीय महत्व के इस संस्थान में वर्ष 2022 में दाखिला लेंगे। खास बात यह है कि इन सभी छात्रों के लिए अब जाकर भौतिक मोड में कक्षाएं फिर से शुरू की जा सकी हैं। आईआईटी द्वारा लिए गए निर्णय के मुताबिक जुलाई 2022-23 सेमेस्टर पूरी तरह से ऑफलाइन आयोजित किया जा रहा है। महामारी के दौरान दाखिला लेने वाले छात्र अब जाकर ऑफलाइन कक्षाओं में भाग ले रहे हैं।

आईआईटी गुवाहाटी का कहना है कि कोविड-19 महामारी ने सभी कक्षाओं को ऑनलाइन संचालित करने के लिए मजबूर कर दिया था। हालांकि आईआईटी सभी छात्रों को कैंपस में वापस लाने और ऑफलाइन कक्षाएं वापस शुरू करने वाला पहला संस्थान बन गया। यहां वर्तमान में सभी शैक्षणिक गतिविधियों को जुलाई 2022 से ऑफलाइन आयोजित किया जाएगा। फिलहाल आईआईटी परिसर में छात्रों की वर्तमान संख्या 2279 पुरुष और 558 महिला स्नातक छात्र, 1752 पुरुष और 392 महिला स्नातकोत्तर छात्र और 1689 पुरुष और 804 महिला पीएचडी छात्र हैं। कुल मिलाकर, लगभग 24 प्रतिशत छात्र महिलाएं हैं।

chaitanya

अपने छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, संस्थान ने कोरोना संबंधित सभी सावधानियां बरती हैं और वर्तमान में एक बड़े पैमाने पर बूस्टर वैक्सीन अभियान की मेजबानी कर रहा है। संस्थान के ऑफलाइन होने के प्रयासों की सराहना करते हुए, आईआईटी गुवाहाटी के निदेशक, प्रो. टी. जी. सीताराम ने कहा, परिसर में छात्रों की उपस्थिति के साथ फिर से जोश और उत्साह से भर गया है और वातावरण अब जीवन से भरा है। यह समुदाय के बीच अधिक बौद्धिक संपर्क की सुविधा प्रदान करेगा और समग्र रूप से सभी को लाभान्वित करेगा। इनमें वह आबादी भी शामिल है जो आईआईटी परिसर में अपनी आजीविका के लिए निर्भर थी। मैं उन सभी का आभारी हूं जिन्होंने आईआईटी गुवाहाटी के लिए ऑफलाइन होने और हमें पूर्व-महामारी सामान्य स्थिति में वापस लाने के लिए संभव बनाया।

--आईएएनएस

जीसीबी/आरएचए