अंतरिक्ष यान ओरियन ने की चंद्रमा की परिक्रमा

वाशिंगटन, 23 नवंबर (आईएएनएस)। नासा के ओरियन अंतरिक्ष यान ने मानव रहित आर्टेमिस मिशन के हिस्से के रूप में चंद्रमा की सतह के 130 किलोमीटर के दायरे से गुजरने के लिए अपना पहला मून फ्लाईबाई सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है।
 | 
अंतरिक्ष यान ओरियन ने की चंद्रमा की परिक्रमा वाशिंगटन, 23 नवंबर (आईएएनएस)। नासा के ओरियन अंतरिक्ष यान ने मानव रहित आर्टेमिस मिशन के हिस्से के रूप में चंद्रमा की सतह के 130 किलोमीटर के दायरे से गुजरने के लिए अपना पहला मून फ्लाईबाई सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है।

नासा के अनुसार आर्टेमिस मिशन में अपने छठे दिन ओरियन ने चंद्रमा के चारों ओर एक दूर प्रतिगामी कक्षा में प्रवेश करने के लिए आवश्यक दो सहायक इंजनों का उपयोग करके चौथे कक्षीय प्रक्षेपवक्र को सफलतापूर्वक पूरा किया।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने मंगलवार देर रात एक बयान में कहा कि ओरियन अंतरिक्ष यान ने 21 नवंबर को चंद्रमा के नजदीक से उड़ान भरी थी।

chaitanya

आर्टेमिस मिशन के मैनेजर माइक सराफिन ने कहा, योजना के मुताबिक मिशन आगे बढ़ रहा है और हमारी संचालन टीम और अंतरिक्ष यान ओरियन अच्छा काम कर रहे हैं।

ओरियन शुक्रवार को चंद्रमा से परे दूर प्रतिगामी कक्षा में प्रवेश करेगा, जिसे दूरस्थ प्रतिगामी कक्षा सम्मिलन बर्न कहा जाता है।

यह कक्षा अत्यधिक स्थिर कक्षा प्रदान करती है, जहां पृथ्वी से दूर चरम वातावरण में ओरियन के सिस्टम को परीक्षण के लिए रखने को गहरे अंतरिक्ष में विस्तारित यात्रा के लिए बहुत कम ईंधन की आवश्यकता होती है।

अपोलो 13 द्वारा निर्धारित रिकॉर्ड को पार करते हुए ओरियन 25 नवंबर को चंद्रमा से अपने सबसे दूर बिंदु लगभग 57,287 मील की यात्रा करेगा।

ओरियन ने पृथ्वी से 216,842 मील की यात्रा की है और चंद्रमा से 13,444 मील की दूरी पर 3,489 मील प्रति घंटे की गति से यात्रा की है।

ओरियन नासा के स्पेस लॉन्च सिस्टम (एएलएस) रॉकेट का पहला एकीकृत उड़ान परीक्षण है।

2025 में नासा ने 1972 में अपोलो 17 मिशन के बाद से पहली क्रू मून लैंडिंग शुरू करने की योजना बनाई है। इसमें चंद्रमा पर चलने वाली पहली महिला और रंग का पहला व्यक्ति शामिल होगा।

आर्टेमिस गहरे अंतरिक्ष में मानव अन्वेषण के लिए एक आधार प्रदान करेगा और चंद्रमा और उससे आगे मानव अस्तित्व का विस्तार करने के लिए नासा की प्रतिबद्धता और क्षमता का प्रदर्शन करेगा।

--आईएएनएस

सीबीटी